• image1

    Lal Quila New Delhi

  • image2

    Parliament New Delhi

  • image1

    Vidhan Sabha Lucknow

  • image1

    Gatewaye of India Mumbai

  • image1

    India Gate New Delhi

Last Updated on: Saturday 25 Mar 2017 12:55:49

Latest News

Get The Power Centre News Updates to your Inbox.
To subscibe Enter your Email :

Uttar Pradesh / Uttarakhand

इलाहाबाद। तीन एडीजे प्रोन्नत कर जिला जज बनाये गये

 Tuesday 14 Feb 2017 07:16:00

इलाहाबाद। तीन एडीजे प्रोन्नत कर जिला जज बनाये गये हाईकोर्ट प्रशासन ने फतेहपुर इलाहाबाद व आगरा में कार्यरत एडीजे को प्रोन्नत कर जिला जज नियुवक्त किया है। जिनमें फतेहपुर के बिकार अहमद अंसारी को उन्नाव इलाहाबाद के मुकेश प्रकाश को कन्नौज व आगरा के एडीजे रामकृष्ण शुक्ल को बागपत का जिला जज नियुक्त किया है।



 Read more            
View More

Bihar / Jharkhand

पटना- बिहार प्रशासनिक सेवा के 10 अफसर प्रमोट

 Wednesday 26 Oct 2016 10:53:00

राज्य सरकार ने बिहार प्रशासनिक सेवा(बासा) के दस अफसरों को प्रमोट किया है। सरकार ने बक्शी श्याम कृष्ण सहाय को एक दिसंबर, 1989 के प्रभार से और राजबल्लभ सिंह को आठ नवंबर, 2014 के प्रभाव से संयुक्त सचिव के रूप में प्रोन्नति है। जबकि ये दोनों अफसर रिटायर हो चुके हैं। इसके अलावा हाकीम प्रसाद और बृजराज राय को 18 जून, 2014 के प्रभाव से संयुक्त सचिव बनाया गया है। इसके साथ ही अरुण कुमार, उपेंद्र नाथ पांडेय और रत्नेश कुमार को अपर सचिव के रूप में प्रोन्नति दी है। अरुण कुमार सहकारिता और उपेंद्र नाथ पांडेय मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग में संयुक्त सचिव हैं। जबकि रत्नेश कुमार समस्तीपुर में अपर समाहर्ता लोक शिकायत निवारण के पद पर तैनात हैं। इसके अलावा मधेपुरा के डीडीसी मिथिलेश कुमार, बिहार वक्फ न्यायाधिकरण के सदस्य मो. बशीर और अपर समाहर्ता मुंगेर ईश्वर चंद्र शर्मा को संयुक्त सचिव के पद पर प्रोन्नत किया है।



 Read more            
View More

Madhya Pradesh / Chhatisgarh

भोपाल-एसएएस का आईएएस बनने का रास्ता साफ

 Monday 13 Apr 2015 08:10:00

तीन साल से भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अवार्ड होने का इंतजार कर रहे राज्य प्रशासनिक सेवा (एसएएस) के अफसरों के लिए अब रास्ता साफ हो गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एसएएस अफसरों को आईएएस अवार्ड दिए जाने पर सहमति दे दी है। अब जल्द ही डीपीसी के लिए प्रस्ताव तैयार कर केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। प्रदेश में 27 पद रिक्त हंै, जिनके लिए डीपीसी होगी।



 Read more            
View More

Himachal Pradesh / Jammu & Kashmir

शिमला-एचएएस रजनीश को एसीटूडीसी का एडिशनल चार्ज

 Tuesday 19 Jul 2016 07:58:00

राज्य सरकार ने एचएएस अधिकार रजनीश कुमार को एसीटूडी का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा है। उनके पास अभी डा वाईएस परमार मैडिकल कॉलेज नाहन के संयुक्त निदेशक के पद का कार्यभार है।



 Read more            
View More

Rajasthan

जयपुर-राज्य सरकार ने 39 आरएएस अफसरों का किया तबादला।

 Wednesday 06 Jul 2016 07:56:00

राज्य सरकार ने 39 आरएएस अफसरों का किया तबादला किया है। आरएएस अफसरों में 5 एडीएम और 11 एसडीएम बदले गए हैं।



 Read more            
View More

Punjab / Haryana

चंडीगढ़-जस्टिस अग्रवाल बने हरियाणा के लोकायुक्त

 Tuesday 19 Jul 2016 08:12:00

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट से रिटायर जस्टिस एन.के. अग्रवाल मंगलवार से हरियाणा के नए लोकायुक्त होंगे। राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने सोमवार को उन्हें राजभवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। जस्टिस अग्रवाल बुधवार से अपना कामकाज शुरू करेंगे। यह पद 18 जनवरी, 2016 को निवर्तमान लोकायुक्त जस्टिस प्रीतमपाल के रिटायर होने के बाद खाली हुआ था। जस्टिस अग्रवाल की नियुक्ति तो सरकार ने अप्रैल में ही कर दी थी,



 Read more            
View More

Inside Story

लखनऊ-चुनाव आयोग की रडार पर प्रमुख सचिव गृह, डीजीपी समेत डेढ़ दर्जन एसएसपी और एसपी

 Friday 06 Jan 2017 10:54:00

चुनाव आयोग की रडार पर प्रमुख सचिव गृह, डीजीपी समेत डेढ़ दर्जन एसएसपी और एसपी -सीनियर अफसर सुलखान सिंह हो सकते हैं नए डीजीपी एडीजी एल एंड लॉ भी चुनाव आयोग की सूची में -लोकसभा चुनाव में बेहतर काम करने वाले अफसरों को मिलेगी जिम्मेदारी लखनऊ। चुनाव आयोग की नजर में राज्य के डेढ़ दर्जन से आईपीएस अफसर हैं। जल्द ही चुनाव आयोग इन अफसरों को मौजूदा पद से हटाकर नए जगह तैनात कर सकता है और इस पदों की कमान लोकसभा चुनाव के दौरान बेहतर काम करने वाले अफसरों का दी जा सकती है। इसमें राज्य के डीजीपी, एडीजी कानून व्यवस्था दलजीत चौधरी का भी नाम है। इसके साथ ही राज्य के प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पांडा को भी हटाने के पूरे संकेत हैं। ये वो अफसर हैं जो राज्य सरकार के करीबी माने जाते हैं। नए डीजीपी के तौर पर सुलखान सिंह चुनाव आयोग की पहली पसंद हैं। सुलखान सिंह 1980 बैच के अफसर हैं और राज्य सरकार ने उनकी सीनियरटी को दरकिनार कर जावीद अहमद को राज्य का डीजीपी नियुक्त किया था। आयोग ने गृह विभाग से प्रदेश के जनपदों में तैनात आईपीएस अफसरों का ब्यौरा तलब किया था। इसमें कई पार्टियों ने जिलों के पुलिस कप्तानों पर मौजूदा सरकार की तरफ झुकाव की शिकायत की थी। इसमें से वह अफसर भी हैं जो पीपीएस से आईपीएस में प्रमोट किए गए हैं। जिन पुलिस कप्तानों को हटाने की पूरी संभावना है, उसमें गौतमबुद्घनगर, आगरा, कुशीनगर, बाराबंकी , लखनऊ, मुरादाबाद, एटा के ,गाजीपुर और गोंडा समेत करीब 14 जनपदों के पुलिस कप्तानों के नाम शामिल हैं। जबकि अभी शंटिंग पोस्टिंग में रखें आईपीएस अफसर मनोज तिवारी, अमित पाठक, सुभाष चन्द दूबे, वैभव कृष्ण, सुरेश राव आनंद कुलकर्णी,अनीस अहमद अंसारी, समेत कई अफसरों को जिलों का कप्तान बनाया जा सकता है। इन अफसरों ने लोकसभा चुनाव में बेहतर काम किया था।



 Read more            
View More

Corporate

नई दिल्ली-धीरेन्द्र वीर सिंह टीएचडीसी के सीएमडी।

 Thursday 08 Dec 2016 07:16:00

धीरेंद्र वीर सिंह ने बुधवार को टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर पद पर नियुक्त किया गया है। सिंह टीएचडीसी में ही निदेशक (तकनीकी) के पद पर कार्यरत थे।



 Read more            
View More

Governance

लोकतंत्र के महाकुंभ का सफल आयोजन-चंचल कुमार तिवारी व टीम

 Tuesday 01 Nov 2016 09:13:00

उत्तर प्रदेश राजनैतिक तौर पर देश का सबसे बड़ा राज्य ही नहीं बल्कि लोकतंत्र की पहली दहलीज कहे जाने वाले ग्राम पंचायतों के लिहाज से सबसे बड़ा राज्य है 2015-2016 में राज्य में पंचायत चुनाव संपन्न हुए। एक तरह से यह विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक चुनाव है और अगर यूं कहें कि यह लोकतंत्र का महाकुंभ था तो कहना गलत नहीं होगा। हालांकि चुनाव कराने का जिम्मा राज्य निर्वाचन आयोग का होता है, लेकिन इसको अमली जामा पहनाया राज्य के पंचायती राज विभाग के प्रमुख सचिव चंचल कुमार तिवारी और उनकी टीम ने।



 Read more            
View More

Game Changer

बैंकों के बाद अब समाजवादी किसान सर्वहित बीमा योजना को किसानों तक पहुंचाएंगे शिवसिंह

 Friday 23 Sep 2016 19:45:00

कभी किसान व गांवों में रहने वालों के लिए सरकारी बैंकों तक पहुंचना आसान नहीं था। अगर पहुंच भी जाते, तो नियम इतने सख्त थे कि ज्यादातर लोग कर्ज लेने से तौबा कर लेते थे। लिहाजा किसान सूदखोरों के जाल में आसानी से फंस जाते थे। इसका नतीजा यह होता था कि सालों कर्ज चुकाने के बाद भी मूलधन जस का तस रहता था और किसान अपनी जमीन बेचने के लिए मजबूर हो जाते थे। लेकिन उत्तर प्रदेश में किसानों और आम जनता को इस समस्या से निजात दिलाई संस्थागत वित्त के महानिदेशक शिवसिंह यादव ने। अब वह राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी किसान बीमा योजना को किसानों तक पहुंचाएगे। हाल ही में राज्य सरकार ने समाजवादी किसान सर्वहित बीमा योजना को शुरू किया है।



 Read more            
View More

ELECTION SPECIAL

लखनऊ। सपा में उठने लगी अखिलेश के खिलाफ आवाज

 Tuesday 14 Mar 2017 07:57:00

लखनऊ। सपा में उठने लगी अखिलेश के खिलाफ आवाज -मुलायम को फिर से कमान सौंपने की मांग -मुलायम व शिवपाल के करीबी नेता चाहते हैं कि अखिलेश चुनाव के बाद पार्टी की बागडोर मुलायम के हाथों में सौंपने का अपना वादा पूरा करें लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में नए प्रयोग के आत्मघाती साबित होने के बाद पार्टी में विरोध के स्वर उठने लगे हैं और सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की अगुवाई में सपा नेतृत्व को पुनर्गठित करने की मांग ने जोर पकड़ लिया है। वर्ष 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में 224 सीटों के साथ सत्ता में काबिज हुई सपा को इस दफा चुनाव में 177 सीटों के नुकसान के साथ अपनी सबसे बुरी हार सहन करनी पड़ी और उसे महज 47 सीटें ही मिलीं। इस करारी पराजय के बाद पार्टी में नेतृत्व को लेकर सवाल उठने लगे हैं। खासकर मुलायम और उनके भाई शिवपाल सिंह यादव के करीबी नेता अब चाहते हैं कि अखिलेश चुनाव के बाद पार्टी की बागडोर मुलायम के हाथों में सौंपने का अपना वादा पूरा करें। सपा के एक वरिष्ठ नेता ने गोपनीयता की शर्त पर कहा कि अखिलेश ने अपनी परीक्षा होने का हवाला देते हुए सिर्फ विधानसभा चुनाव तक ही सपा की बागडोर सौंपने की बात कही थी। अब चूंकि वह परीक्षा में नाकाम हो चुके हैं, लिहाजा उन्हें पार्टी की बागडोर नेताजी को सौंप देनी चाहिए। पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सपा नेता मधुकर जेटली ने भी कहा कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का सम्मान वापस लौटाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि नेताजी का सम्मान वापस लौटाया जाना चाहिए। वह पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करना चाहते थे। पिछले छह महीने के दौरान पार्टी में जो कुछ हुआ वह भी पार्टी की हार का एक बड़ा कारण है। सपा के संस्थापक सदस्य पूर्व प्रवक्ता सीपी राय ने कहा कि इस बार विधानसभा चुनाव में जीतने वाले सपा प्रत्याशियों में से ज्यादातर वे लोग हैं जिन्हें मुलायम और शिवपाल ने टिकट दिए थे। तमाम अवरोधों के बावजूद शिवपाल आसानी से चुनाव जीतने में कामयाब रहे। राय ने कहा कि जौनपुर में मुलायम की रैली ने पारसनाथ यादव को मुश्किल हालात से निकालकर चुनाव जिताया। इसी से मुलायम की पकड़ का अंदाजा होता है। यह अलग बात है कि लखनऊ छावनी सीट पर सपा संस्थापक की रैली के बावजूद उनकी बहू अपर्णा चुनाव हार गई लेकिन यह भी स्थापित तथ्य है कि इस क्षेत्र में सपा का कोई जनाधार नहीं था। राय ने समाजवादी परिवार में हुए झगड़े में अखिलेश के पक्षधर रहे पार्टी नेता रामगोपाल यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि रामगोपाल या तो अपनी गलतियों को स्वीकार करें, नहीं तो पार्टी को उनके साथ वही करना चाहिए जो वह दूसरों के साथ किया करते हैं। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि किसी भी चुनाव में सपा की हार होने पर रामगोपाल हारे हुए बूथों का रिकार्ड निकलवाकर उन पर तैनात कार्यकर्ताओं को परेशान करते थे। राय ने कहा कि रामगोपाल पर भाजपा के साथ हाथ मिलाने का आरोप लगता था। चुनाव के नतीजे आने के बाद यह शक और पुख्ता हो गया है। इस बीच, जसवंतनगर सीट से एक बार फिर चुने गए शिवपाल ने ट्वीट करके कहा है ‘हम फिर लड़कर जीतेंगे।



 Read more            
View More
Total Hits: 613602
Copyright © 2015 The Power Centre. All Rights Reserved.
Developed and Maintained By: www.theintellisystem.in