यूपी सरकार नकल रोकने के लिए एसटीएफ की लेगी मदद

योगी सरकार

यूपी सरकार नकल रोकने के लिए एसटीएफ की लेगी मदद.उत्तर प्रदेश सरकार अब प्रदेश में बोर्ड परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसटीएफ की मदद लेगी। प्रदेश सरकार की योजना से प्रदेश में नकल माफियाओं पर अंकुश लगाने में आसानी होगी।

प्रदेश के डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि सरकार आगामी बोर्ड परीक्षा में हर हाल में नकल रोकने के लिए संकल्पित है। लिहाजा नकल माफिया पर शिकंजा कसने के लिए सरकार स्पेशल टास्क फोर्स ( एसटीएफ) की भी मदद लेगी। ऐसा प्रदेश में पहली बार हो रहा है। जब एसटीएफ की मदद नकल रोकने के लिए ली जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शिक्षा के सुधार के लिए प्रदेश सरकार कई तरह के कदम उठा रही है। भाजपा सरकार परीक्षाओं को नकल से मुक्त करने के लिए प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अगले सत्र से एनसीईआरटी का पैटर्न लागू होगा और उन्‍हीं की किताबों को सिलेबस में शामिल किया जाएगा, जिससे असमानता खत्म होगी। असल में प्रदेश में भाजपा सरकारों के दौरान बोर्ड का रिजल्ट हमेशा कम होता है। इसका सबसे बड़ा कारण नकल माफिया पर अंकुश लगाना है।

शर्मा ने कहा कि सैनिक स्कूल का नाम शहीद कैप्टन मनोज पांडे के नाम पर किया गया है। प्रदेश के स्कूलों में योग और जूडो की क्लास शुरू हुई हैं। उच्च शिक्षा में शिक्षकों को प्रमोट करके रिक्त पद भरे हैं। शिक्षकों को सम्मानित किया गया है। उन्‍होंने कहा सरकार की तरफ से 2 लाख 82 हज़ार स्वेटर अभी तक वितरित किए गए हैं। पिछली सरकार ने इसके बारे में सोचा तक नहीं था, अब हो हल्ला मचा रहे हैं। डिप्टी सीएम ने कहा कि सेवानिवृत प्रवक्ताओं की सेवा नई भर्ती तक मानदेय देकर ली जाएंगी। प्रदेश के 14 विवि में दीनदयाल उपाध्याय शोध पीठ की स्थापना की गई है। महाविद्यालयों में ई-टेंडरिंग लागू की गई है। बताया कि सेवानिवृत्त अध्यापकों के लिए मानदेय बढ़ाया गया है। 24  जनवरी को यूपी दिवस के अवसर पर विद्यालयों की भी भागीदारी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GALIYARA