संकट में घिरा बिहार में लालू नीतीश गठबंधन

गठबंधन

संकट में घिरा बिहार में लालू नीतीश महा गठबंधन.बिहार में महागठबंधन में राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर तल्खी सियासत की हद से आगे बढ़ गई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के अप्रत्याशित हमले से जदयू के दिल पर चोट पहुंची है। ऊपर से राजद विधायक भाई वीरेंद्र की मख्यमंत्री के बारे में असम्मानजनक टिप्पणी ने आग में घी डालने का काम किया है। इन वजहों से ढाई साल पुराना महागठबंधन पहली बार गंभीर संकट में घिरा दिख रहा है।

यह भी पढ़े:-आखिर मुलायम क्यों गए जेल में बंद गायत्री प्रसाद प्रजापति से मिलने

तेजस्वी ने 23 जून को नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि हम हार-जीत के लिए विचारधारा से समझौता नहीं करते। जदयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह का कहना है कि सरकार में शामिल लोगों से ऐसी टिप्पणी की उम्मीद नहीं की जा सकती। जदयू के प्रदेश प्रवक्ता संजय सिंह ने तो सीधे-सीधे यह कहा कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद अपने नेताओं से नीतीश कुमार को गाली दिलवाना बंद करें। नीतीश के बारे में पहले भी असम्मानजनक टिप्पणियां कर चुके राजद विधायक भाई वीरेंद्र ने कह दिया कि ऐसा कोई सगा नहीं जिसे नीतीश ने ठगा नहीं।

भाई वीरेंद्र के बयान के तुरंत बाद राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह का यह बयान आ गया कि नीतीश भाजपा में चले क्यों नहीं चले जाते। जदयू प्रवक्ता संजय सिंह कहते हैं कि अब पानी सर के ऊपर बह रहा है। नीतीश कुमार का चेहरा सामने रखकर चुनाव जीतने वाले उनका ही अपमान कर रहे हैं। नीतीश कुमार का चेहरा सामने नहीं होता तो ऐसे लोग चना लादने चले जाते। ऐसा लगता है कि भाई वीरेंद्र और रघुवंश प्रसाद सिंह जैसे लोगों से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद डरते हैं।

राजद की ओर से सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधने के कारण राज्य का करीब ढाई साल पुराना महागठबंधन गहरे संकट में दिख रहा है। उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने दो दिन पहले मुख्यमंत्री के बयान पर आक्रामक पलटवार किया था। इस वजह से बिगड़ी बात बनने के बजाय रविवार को तब और अधिक बिगड़ गई, जब तेजस्वी और राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने मुख्यमंत्री को लक्ष्य करके नए बयान जारी कर दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GALIYARA