शिया वक्फ बोर्ड चाहता है अयोध्या में मंदिर और लखनऊ में मस्जिद बने- रिजवी.

शिया वक्फ बोर्ड चाहता है अयोध्या में मंदिर और लखनऊ में मस्जिद बने- रिजवी. शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे का जल्द से जल्द हल चाहता है। लिहाजा उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के मसौदे के तहत चाहता है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कराया जाए, वहीं मस्जिद का निर्माण लखनऊ में कराया जाए। इसके लिए शिया वक्फ बोर्ड ने लखनऊ के घंटाघर के पास ट्रस्ट की ज़मीन पर मस्जिद बनाने का प्रस्ताव दिया है। साथ ही कहा गया है कि इस मस्जिद का नाम किसी राजा के नाम न होकर अमन की मस्जिद रखा जाए।

शिया बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड अपना अधिकार कस्टोडियन होने के नाते हटा रहा है। हम उस पर कभी भी दावा नही करेंगे। सुप्रीम कोर्ट में पांच दिसंबर से राज जन्मभूमि तथा बाबरी मस्जिद विवाद पर नियमित सुनवाई से पहले यहां पर समझौते के जोरदार प्रयास हो रहे हैं। इसी सिलसिले में लखनऊ में शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी और राम मंदिर के पक्षकार अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी ने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया।

वसीम रिजवी ने कहा कि अयोध्या में अब बाबरी मस्जिद बनाने का कोई मतलब नहीं हैं। हम आपसी सहमति से हम एक हल निकलना चाहते हैं। जिसके लिए हम अयोध्या में मंदिर बनाने को पूरी तरह से तैयार हैं। वसीम रिजवी ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मामले मे सिर्फ़ झगड़ा बढ़ा रहा है। अब सुप्रीम कोर्ट इस मसौदे पर फैसला करेगा। अयोध्या में अब मस्जिद बनाने का कोई मतलब नहीँ और लखनऊ में हो मस्जिद-ए-अमन का निर्माण हो। वसीम रिजवी ने कहा कि हम कत्ल-ए-आम नही चाहते हैं। हमने कभी भी कोई वकील कोर्ट में खड़ा नही किया तो शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से किसने वकील खड़ा किया, इसकी जांच होनी चाइये। अयोध्या मंदिरों का शहर है। शिया वक्फ बोर्ड अयोध्या में मंदिर बनाने के लिए मदद भी करेगा। मसौदे के अनुसार अयोध्या मे राम मंदिर बने। रिजवी ने कहा कि 1945 तक बाबरी मस्जिद के मुतवल्ली शिया ही रहे। 1944 के रजिस्ट्रेशन को कोर्ट एक मामले में खारिज कर चुका है। उन्होंने कहा कि अब तो सुप्रीम कोर्ट इस मसौदे पर फैसला करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GALIYARA