गोमती रिवर फ्रंट मामले की हो सकती है सीबीआई जांच

yogi government

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार गोमती रिवर फ्रंट मामले की जांच सीबीआई से करा सकती है। इसके लिए न्यायिक जांच पूरी हो गयी है। जिसमें होने के घोटाले के संकेत मिले हैं।

उत्तर प्रदेश की पूर्व अखिलेश सरकार ने गोमती रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट को शुरू किया था और चुनाव से ठीक पहले इसका इसका उद्घाटन भी कर दिया था। जबकि इसका निर्माण कार्य बचा हुआ था। लेकिन सपा सरकार के जाते ही योगी सरकार सत्ता में आयी और इस प्रोजेक्ट का काम रोककर जांच शुरू करा दी।

स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ योगी ने प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया और वहां पर कई तरह की अनियमिताओं को पकड़ा। क्योंकि इस प्रोजेक्ट में महज साठ फीसदी काम हुआ था जबकि इसमें प्रोजेक्ट का कुल 95 फीसदी धन खर्च हो चुका था।

यह भी पढ़े:- लखनऊ। यूपी सरकार ने किए 174 एसडीएम के ट्रांसफर

सिंचाई विभाग ने कार्य पूरा कराने के लिए 900 करोड़ की अतिरिक्त मांग की थी। लेकिन योगी सरकार ने आते ही फंड रिलीज करने पर रोक लगा दी थी। सूत्रों के मुताबिक अब योगी सरकार सीबीआई जांच की सिफारिश कर सकती है जांच के लिए गठित समिति 15 जून तक सीबीआई जांच की सिफारिश कर सकती है।
राज्य के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि गोमती रिवर फ्रंट घोटाला भ्रष्टाचार की जननी है। घोटाले की जांच पूरी हो चुकी है।

मामले में रिपोर्ट सीएम योगी आदित्यनाथ को सौंपी गई दी है। उधर राज्य सरकार लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे की भी जांच के आदेश के दे चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GALIYARA