BJP loses in Congress stronghold: कांग्रेस के गढ़ में बुरी तरह हारी बीजेपी, काम आई विधायक अदिति सिंह की बगावत

BJP loses in Congress stronghold: अब, जिला पंचायत अध्यक्ष को चुनने के लिए अन्य 20 की निर्णायक भूमिका होगी। दिलचस्प बात यह है कि यहां बहुजन समाज पार्टी का खाता भी नहीं खुला है। जिला पंचायत सदस्य की 52 सीटें हैं।

BJP loses in Congress stronghold: कांग्रेस के गढ़ में बुरी तरह हारी बीजेपी, काम आई विधायक अदिति सिंह की बगावत

BJP loses in Congress stronghold: उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव (Uttar Pradesh Panchayat elections) में कांग्रेस (Congress) के गढ़ कहे जाने वाले रायबरेली (RaeBareli) में भाजपा को करारी शिकस्त मिली है। राज्य की सत्ता में होने और कांग्रेस के बागी विधायक अदिति सिंह (Aditi Singh) की मजबूत पकड़ के बाद भी भाजपा पंचायत चुनाव में कोई करिश्मा नहीं दिखा सकी है। फिलहाल कांग्रेस के गढ़ रायबरेली में भाजपा के बागी विधायक अदिति सिंह को भी पंचायत चुनाव में भाजपा का लाभ नहीं मिला। 

असल में सोनिया गांधी(Sonia Gandhi) के संसदीय क्षेत्र रायबरेली जिले में जिला पंचायत सदस्य की 52 सीटें हैं। इसमें कांग्रेस (Congress) को 10, सपा को 14 सीटें मिलीं। वहीं 9 सीटों पर सिमट गई। जिला पंचायत चुनाव परिणाम में रायबरेली एमएलसी दिनेश सिंह का भी भाजपा फायदा नहीं उठा सकी है। वहीं सबसे ज्यादा चर्चा कांग्रेस से सदर विधायक अदिति सिंह (Aditi Singh) की बगावत को लेकर है। क्योंकि इससे भाजपा को कोई फायदा नहीं हुआ। भाजपा की हालत यह थी कि पार्टी डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के नेतृत्व में इस जिले में दोहरे अंकों के निशान तक नहीं पहुंच सकी। 

अब कांग्रेस की होगी अहम भूमिका और विपक्ष होगा एकजुट

अब, जिला पंचायत अध्यक्ष को चुनने के लिए अन्य 20 की निर्णायक भूमिका होगी। दिलचस्प बात यह है कि यहां बहुजन समाज पार्टी का खाता भी नहीं खुला है। जिला पंचायत सदस्य की 52 सीटें हैं। पहली बार, प्रमुख राजनीतिक दलों ने समर्थित उम्मीदवारों को चुनाव लड़ा। कांग्रेस (Congress) पहले से सभी सीटों पर उम्मीदवार नहीं उतार सकती थी। उन्होंने केवल 33 वार्डों में चुनाव लड़ा, जिसमें 10 सीटें जीतीं। सपा ने 35 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार उतारे, जिनमें से यह 14 रही है वहीं भाजपा ने सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे और वह केवल 9 सीटों पर ही सिमट गई।

ALSO READ:-UP Panchayat Election Results: अयोध्या-मथुरा-काशी में आखिर क्यों हार गई भाजपा, क्या हैं सियासी मायने

जिले में प्रमुख नेता हारे चुनाव

पूर्व सांसद अशोक सिंह के बेटे मनीष सिंह की पत्नी आरती सिंह ने अमन द्वितीय से जीत हासिल की है। जगतपुर से कांग्रेस के राकेश सिंह राणा ने अपनी ताकत दिखाई है। जबकि सपा समर्थित उम्मीदवार ने राही ब्लॉक के सभी तीन सीटों पर जीत हासिल की है, पूर्व ब्लॉक प्रमुख और पूर्व सपा विधायक रामलाल अकेला के बेटे विक्रांत अकेला ने महराजगंज से जीत दर्ज की है। न केवल उन्होंने सपा के खिलाफ बगावत की है, बल्कि जीत भी हासिल की है। बीजेपी के पूर्व विधायक राजाराम त्यागी को हराया।