BJP veteran lost Elections: बीजेपी के दिग्गज नहीं पहुंच पाए विधानसभा की दहलीज पर

BJP veteran lost Elections: चर्चित आईपीएस अधिकारी भारती घोष (Bharti Ghosh) भ्रष्टाचार के के आरोपों ममता को घेर रही थी। उन्हें बंगाल की लड़ाई में हार का सामना करना पड़ा है।

BJP veteran lost Elections: बीजेपी के दिग्गज नहीं पहुंच पाए विधानसभा की दहलीज पर

BJP veteran lost Elections:  तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में शानदार जीत के साथ सत्ता में वापसी की है। टीएमसी (TMC) ने 292 विधानसभा सीटों में से 210 पर जीत दर्ज की है और 3 सीटों पर आगे चल रही है। टीएमसी (TMC) ने भले ही शानदार जीत दर्ज की हो, लेकिन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के शुभेंदु अधिकारी के सामने हार का सामना करना पड़ा।

चर्चित आईपीएस अधिकारी भारती घोष (Bharti Ghosh) भ्रष्टाचार के के आरोपों ममता को घेर रही थी। उन्हें हार का सामना करना पड़ रहा है। वहीं केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Babul Supriyo), सांसद लॉकेट चटर्जी (Lockett Chatterjee) और कई बड़े नेताओं को बंगाल की लड़ाई में हार का सामना करना पड़ा है। भारती घोष (Bharti Ghosh) को भाजपा ने डेबरा विधानसभा सीट से मैदान में उतारा था। भारती घोष (Bharti Ghosh) को टीएमसी  (TMC) के हुमायूं कबीर ने लगभग 11 हजार मतों के अंतर से शिकस्त दी।

टॉलीगंज विधानसभा सीट से ममता सरकार के मंत्री अरुप विश्वास के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Babul Supriyo) को लगभग 50 हजार वोटों के अंतर से हार मिली। चुचुड़ा विधानसभा सीट पर लॉकेट चटर्जी (Lockett Chatterjee) लगभग 19 हजार वोटों के अंतर से टीएमसी  (TMC) उम्मीदवार से हार गई हैं। भाजपा (BJP) के टिकट पर विधानसभा चुनाव लडऩे वाले स्वपन दासगुप्ता को भी इस सियासी रण में हार का सामना करना पड़ा। उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दिया था।

ALSO READ:-Hero Of Nandigram Battle: टीएमसी ने जीता बंगाल का किला, बीजेपी हारी बाजी लेकिन जीत के 'महानायक' बने अधिकारी

टीएमसी (TMC) उम्मीदवार ने स्वपन दासगुप्ता को लगभग सात हजार वोटों के अंतर से हराया। चंडीतला सीट से भाजपा (BJP) उम्मीदवार बंगला फिल्मों के अभिनेता यश दासगुप्ता को भी लगभग 41 हजार वोटों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा है। इनके अलावा, बीजेपी (BJP) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा, टीएमसी (TMC) छोड़ बीजेपी  (BJP) का दामन थामने वाले राजीव बनर्जी,  टीएमसी (TMC) की सायंतिका बैनर्जी और सैनी घोष, जेएनयू (JNU) के छात्र अध्यक्ष आइशी घोष को भी चुनावी समर में हार का सामना करना पड़ा।