BSP UP Mission -2022: फिर ब्राह्मण कार्ड खेलने की जुगत मायावती, क्या यूपी में चलेगा दलित ब्राह्मण समीकरण?

BSP UP Mission -2022: बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने खुशी दुबे मामले का अदालत में प्रतिनिधित्व करने का फैसला किया है। खुशी दुबे की शादी के तीन दिन बाद ही उसके पति अमर दुबे को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था।

BSP UP Mission -2022: फिर ब्राह्मण कार्ड खेलने की जुगत मायावती, क्या यूपी में चलेगा दलित ब्राह्मण समीकरण?

BSP UP Mission -2022: उत्तर प्रदेश अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कुरुक्षेत्र बन गया है। राज्य में सभी सियासी दलों ने जातिगत मुद्दों पर फोकस करना शुरू कर दिया है। वहीं यूपी में सत्ता में आ चुकी बहुजन समाज पार्टी एक बार फिर ब्राह्मणों को लुभाने की जुगत में है। फिलहाल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) से पहले ब्राह्मण मतदाताओं को लुभाने की कोशिश कर रही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अब बिकरू मामले के मुख्य आरोपी विकास दुबे के साथी अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे की रिहाई के लिए कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) कोर्ट में खुशी दुबे (Khushi Dubey)मामले की पैरवी करेंगे। अमर दुबे को पुलिस ने खुशी दुबे की शादी के तीन दिन बाद ही मुठभेड़ में मार गिराया था। खुशी पर हत्या और आपराधिक साजिश समेत आईपीसी की गंभीर धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। वर्तमान में खुशी बाराबंकी जिले के किशोर केंद्र में है।

23 जुलाई से शुरू हो रहे बीएसपी के ब्राह्मण सम्मेलन (Brahmin Conference) की तैयारियों का जायजा लेने अयोध्या पहुंचे पूर्व मंत्री नकुल दुबे से जब इस संबंध में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सतीश चंद्र मिश्र वरिष्ठ वकील हैं और जो भी उनकी मदद मांगेगा, वह उनकी वकालत करेंगे। अगर उन्होंने खुशी दुबे के वकालतनामा साइन किए हैं तो फिर कोर्ट में उनका प्रतिनिधित्व करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर किसी जाति या समुदाय का कोई व्यक्ति मदद मांगता है तो उसकी मदद की जाती है।

ALSO READ: UP Mission-2022: विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा बना रही है चक्रव्यूह, जीत ही लक्ष्य

खुशी है कैद

गौरतलब है खुशी दुबे पिछले साल 8 जुलाई से जेल में हैं और उन्हें अभी तक जमानत नहीं मिली है। उन्होंने जमानत के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया ((Knocked the door of the High Court) है। अब बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र खुशी दुबे का बचाव करेंगे और उनकी रिहाई की मांग करेंगे। खुशी दुबे की शादी के तीन दिन बाद ही विकास दुबे के शार्पशूटर अमर दुबे को पुलिस ने हमीरपुर में मुठभेड़ में मार गिराया था। बिकरू की घटना के बाद पुलिस ने खुशी दुबे को भी आरोपी बनाया है।