Bihar: शराब बंदी के बावजूद बिहार में मार्च में पकड़ी गई रिकॉर्ड शराब, पटना अव्वल

Bihar: होली के कारण भी मार्च में शराब की कई बड़ी खेप पकड़ी गई। इस दौरान कुल 10,755 छापेमारियां राज्य भर में हुईं जिसमें 1075 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

Bihar: शराब बंदी के बावजूद बिहार में मार्च में पकड़ी गई रिकॉर्ड शराब, पटना अव्वल

Bihar:  मार्च का महीना अवैध शराब के धंधेबाजों के लिए सबसे बुरा रहा। उत्पाद विभाग की टीम ने मार्च में रिकॉर्ड 1.70 लाख लीटर शराब पकड़ी है। अगर इसमें पुलिस की कार्रवाई भी जोड़ दी जाए तो आंकड़ा 3.63 लाख लीटर को पार कर जाएगा। उत्पाद विभाग की टीम हर माह अपने पिछले महीने का रिकॉर्ड तोड़ रही है। इस साल जनवरी में 1.13 लाख लीटर शराब पकड़ी गई। फरवरी में यह आंकड़ा बढ़कर 1.58 लाख लीटर और मार्च में बढ़कर 1.70 लाख लीटर तक पहुंच गया है।

होली के कारण भी मार्च में शराब की कई बड़ी खेप पकड़ी गई। इस दौरान कुल 10,755 छापेमारियां राज्य भर में हुईं जिसमें 1075 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। इसमें कुल 339 वाहन जब्त किए गए जिसमें 15 ट्रक और 102 चार पहिया वाहन शामिल हैं।

राज्य में मार्च के महीने में सबसे अधिक शराब पटना जिले में पकड़ी गई। यहां कुल 673 छोटी-बड़ी छापेमारियों में 15,977 लीटर शराब जब्त की गई। इसमें 7272 लीटर देसी जबकि 8705 लीटर विदेशी शराब थी। मामले में 97 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा गया। दूसरे स्थान पर 14,431 लीटर के साथ पूर्वी चंपारण जबकि तीसरे स्थान पर 13,819 लीटर के साथ औरंगाबाद रहा। सबसे कम 170 लीटर शराब शिवहर से पकड़ी गई। इसके पूर्व फरवरी में भी सबसे अधिक 64,952 लीटर शराब पटना जिले से पकड़ी गई थी।

फतुहा के एक बंद गोदाम से पुलिस ने भारी मात्र में अंग्रेजी शराब बरामद की थी। इसके बाद मनेर, बिहटा और मसौढ़ी में भी अभियान चलाकर शराब जब्त की गई थी। पुलिस की कार्रवाई के बाद शराब तस्करी पर काफी हद तक नियंत्रण लगाया जा सका।