भैजी उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत का 'हैगो खेल'? कौन बनेगा बीजेपा का 'मांझी'

माना जा रहा है कि राज्य में सीएम अपने मनमुताबिक किसी खास को सीएम के नाम के लिए प्रस्तावित करना चाहेंगे। लिहाजा इसके लिए धन सिंह रावत का सबसे आगे आ रहा है।

भैजी उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत का 'हैगो खेल'? कौन बनेगा बीजेपा का 'मांझी'

देहरादून। उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और अब राज्य में नए सीएम की तलाश शुरू हो गई है। वहीं राज्य में चार नाम प्रमुखता से चल रहे हैं। लेकिन जाहिर है कि आलाकमान इसके लिए भी मैसेज कर चुकी है। क्योंकि कल बीजेपी आलकमान के बाद त्रिवेन्द्र सिंह को ये संदेश दे दिया गया कि उन्हें कुर्सी छोड़नी पड़ेगी। जबकि राज्य बीजेपी इस बात को खारिज कर हीह थी राज्य में किसी भी तरह का बदलाव नहीं हो रहा है। वहीं राज्य में सोशल मीडिया में ये चलता रहा है कि त्रिवेन्द्र सिंह का राज्य में खेल हो गया है। 

माना जा रहा है कि राज्य में सीएम अपने मनमुताबिक किसी खास को सीएम के नाम के लिए प्रस्तावित करना चाहेंगे। लिहाजा इसके लिए धन सिंह रावत का सबसे आगे आ रहा है। वहीं केन्द्र से अनिल बलूनी की भी दावेदारी को नकारा नहीं जा सकता है। ये भी हो सकता है कि त्रिवेन्द्र सिंह धन सिंह रावत को राज्य में सीएम के तौर पर प्रस्तावित करें और सभी सदस्य उनके नाम पर मुहर लगाएं। 

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में कोर ग्रुप की बैठक को बीच में छोड़कर बाहर निकले सीएम त्रिवेन्द्र!

वहीं कल तक किसी भी तरह के इस्तीफा की बात को नकार रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि संगठन चाहता है कि किसी और को मौका मिले। यानी साफ है कि उन्हें इस्तीफा देना पड़ेगा। वहीं त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह सामूहिक रूप से तय किया गया था कि मुझे अब किसी और को यह मौका देना चाहिए। पूर्व सीएम ने कहा कि बुधवार को बीजेपी विधायक दल की बीजेपी मुख्यालय में सुबह 10 बजे बैठक होगी और इसमें अगले सीएम के नाम की घोषणा की जाएगी। इसमें केन्द्रीय पर्यवेक्षक भी रहेंगे।

फिलहाल ये नाम हैं चर्चा में

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री की दौड़ में राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी, नैनीताल से लोकसभा सांसद अजय भट्ट और धन सिंह रावत को बताया जा रहा है। लेकिन त्रिवेन्द्र की पहली पंसद धन सिंह रावत बताए जा रहे हैं। क्योंकि धन सिंह संगठन के नेता हैं और त्रिवेन्द्र के करीबी भी। राज्य में धन सिंह को काफी सक्रिय कार्यकर्ता और नेता माना जाता है। लिहाजा त्रिवेन्द्र सिंह रावत नीतीश कुमार की तरह फैसला करेंगे। जिसमें उन्होंने जीतन राम मांझी को अपने खड़ाऊ सौंपे थे। हालांकि इसके बाद राज्य में जीतन राम मांझी और नीतीश कुमार में रिश्ते खराब हो गए थे और जीतन राम मांझी ने सीएम से इस्तीफा देने से मना कर दिया था।