अब कांग्रेस में होगी 'महाभारत' और कुरूक्षेत्र से बागी चलाएंगे दस जनपथ पर 'ब्रह्मास्त्र'

कांग्रेस में उभर चुकी कलह कम होने के नाम नहीं ले रही है और अब पार्टी में लड़ाई टीम राहुल बनाम जी -23 की हो गई है। वहीं अब असंतुष्ट देशव्यापी मुहिम चलाने की जुगत में हैं। ताकि कांग्रेस कार्यकर्ताओं का समर्थन हासिल किया जा सके।

अब कांग्रेस में होगी 'महाभारत' और कुरूक्षेत्र से बागी चलाएंगे दस जनपथ पर 'ब्रह्मास्त्र'

नई दिल्ली। फिलहाल जम्मू में अपनी ताकत का अहसास कराने के बाद कांग्रेस का बागी गुट अब पार्टी में आतंरिक लोकतंत्र बहाल करने और पार्टी में सुधार के लिए व्यापक फैसले करने के लिए देशव्यापी अभियान शुरू करने की तैयारी में है। यही नहीं जल्द ही कांग्रेस के बागी गुट की बैठक हरियाणा के कुरूक्षेत्र में होगी। जहां से बागी सीधे तौर पर कांग्रेस का रिमोर्ट कंट्रोल माने जाने वाले दश जनपथ पर हमला करेंगे।

असल में गुलाम नबी आज़ाद के 'एकजुटता प्रदर्शन' के बाद असंतुष्ट नेताओं (G -23) और कांग्रेस (Congress) में राहुल गांधी के बीच दरार और गहरी होने लगी है। माना जा रहा है कि पार्टी चौराहे की स्थिति में है और अब इसे चुनना है कि असंतुष्टों को शांत करना है या उनके बिना आगे बढ़ने का फैसला करना है। इसका फैसला कांग्रेस आलाकमान को लेना है। वहीं बागी गुट अब देश व्यापी अभियान को शुरू करने की योजना बना रहा है।

बागी गुलाम के विद्रोही रवैये के कारण मुश्किल राह में कांग्रेस

पिछले हफ्ते शनिवार को गुलाम नबी आजाद(Gulam nabi azad) के कार्यक्रम के बाद कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ गई हैं।  मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जम्मू कार्यक्रम के बाद असंतुष्ट नेता अब कुरुक्षेत्र में एक सार्वजनिक बैठक की योजना बना रहे हैं। इसके बाद वह देशभर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं का समर्थन हासिल करने के लिए गैर-राजनीतिक मंचों पर भी बैठक करेंगे।

यह भी पढ़ें:-  कांग्रेस के बागियों ने पहनी भगवा पगड़ी, दस जनपथ की बढ़ी चिंताएं

गांधी परिवार और समर्थक वेट और वॉच की स्थिति में
 
फिलहाल कांग्रेस में सोनिया गांधी समर्थक और गांधी परिवार के वफादार जल्दबाजी में नहीं है और बागी नेताओं को शांत करने के लिए पार्टी अभी कोई कदम नहीं उठा रही है। क्योंकि पांच राज्यों में चुनाव है और कांग्रेस इन चुनावों पर फोकस करना चाह रही है। बताया जा रहा है मई के बाद कांग्रेस में गांधी परिवार समर्थक बड़ा फैसला करने के लिए सोनिया गांधी पर दबाव बना सकते हैं। 

चुनाव परिणामों के बाद होगा कांग्रेस में घमासान

माना जा रहा है कि मई के बाद कांग्रेस में घमासान हो सकता है। अगर पार्टी ने बागियों को शांत नहीं किया तो आने वाले समय में अन्य बागी कांग्रेस आलाकमान के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं। हालांकि कांग्रेस में दो फाड़ हो चुके हैं। पहला गांधी परिवार समर्थक और दूसरा बागियों का।