Feminism started in Kerala in LDF: क्या दामाद के कारण विजयन ने कैबिनेट से काटा शैलजा का पत्ता!

Feminism started in Kerala in LDF: केरल में दूसरी बार पिनाराई विजयन (pinarayi vijayan) के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता में आई है, लेकिन इस बार सीपीएम ने मौजूदा स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को कैबिनेट में शामिल नहीं किया गया है।

Feminism started in Kerala in LDF: क्या दामाद के कारण विजयन ने कैबिनेट से काटा शैलजा का पत्ता!

Feminism started in Kerala in LDF: केरल में पिछले पांच दशकों में पहली बार इतिहास रचने वाली पिनाराई विजयन (pinarayi vijayan) सरकार 20 मई यानी गुरुवार को शपथ लेगी। लेकिन इस बार विजयन कैबिनेट में राज्य की तेज तर्रार स्वास्थ्य मंत्री माने जाने वाली केके शैलजा (kk shailaja) नहीं होगी। क्योंकि राज्य सरकार ने उन्हें इस बार कैबिनेट में नहीं लिया है।

जबकि राज्य विजयन के दामाद मुहम्मद रियाज कैबिनेट में शामिल किए गए हैं। वहीं मंगलवार को सीपीएम विधायकों ने औपचारिक रूप से पिनाराई विजयन (pinarayi vijayan) को अपना संसदीय दल का नेता और मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार चुन लिया। जबकि राज्य में गुरुवार को लगातार दूसरी बार एलडीएफ सरकार शपथ लेगी और इसमें सीएम के साथ ही 11 नामों को मंत्री के रूप में शामिल करने की घोषणा की।

केरल में दूसरी बार पिनाराई विजयन (pinarayi vijayan) के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता में आई है, लेकिन इस बार सीपीएम ने मौजूदा स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को कैबिनेट में शामिल नहीं किया गया है। वहीं मंगलवार को सीपीएम विधायकों ने औपचारिक रूप से पिनाराई विजयन को अपना संसदीय दल का नेता और मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार चुन लिया। क्योंकि राज्य में उनकी अगुवाई में ही चुनाव लड़े और उन्होंने कांग्रेस की अगुवाई वाली यूडीएफ को करारी मात दी है। जबकि लोकसभा चुनाव में एलडीएफ का प्रदर्शन काफी खराब था। फिलहाल गुरुवार को दूसरी एलडीएफ सरकार में 11 नामों को मंत्री के रूप में शामिल करने की घोषणा की। लेकिन इसमें केके शैलजा (kk shailaja) का नाम नहीं है। जिनके बारे में कहा जा रहा कि पार्टी उन्हें व्हिप बना सकती है।


नए चेहरों के लिए वरीयता

वहीं मंगलवार को ही सीपीएम पोलित ब्यूरो ने मंत्रियों की सूची को अंतिम रूप दिया। इसमें विजयन, कोडियारी बालाकृष्णन, एमए बेबी और एस रामचंद्रन पिल्लई शामिल थे। वहीं पार्टी ने नए चेहरों को तरजीह देते हुए जी सुधाकरन और टीएम थॉमस इसाक जैसे वरिष्ठ नेता को शामिल नहीं किया गया है। पोलित ब्यूरो के सदस्य बालाकृष्णन ने राज्य समिति के सदस्यों के सामने अनुसमर्थन के लिए सूची पेश की। लेकिन में कन्नूर दिग्गज पी जयराजन समेत कुछ नेताओं को छोड़कर किसी अन्य नेता ने विरोध नहीं किया।

ALSO READ: Vijayan Returns in Kerala:केरल में फिर लाल सलाम, कांग्रेस कायम न रख सकी 40 साल पुरानी परंपरा

इन नेताओं को मिली कैबिनेट में जगह
 
राज्य कैबिनेट के लिए नए मंत्रियों में सीपीएम केंद्रीय समिति के सदस्य और तीन बार के विधायक एमवी गोविंदन, केंद्रीय समिति के सदस्य और पूर्व अध्यक्ष के राधाकृष्णन, राज्य सचिवालय के सदस्य और पूर्व सांसद पी राजीव और केएन बालगोपाल, राज्य समिति के सदस्य सावजी चेरियन, वीएन वासवन, वी शिवनकुट्टी और मोहम्मद शामिल हैं। इसके साथ ही त्रिशूर के पूर्व मेयर आर बिंदू, पूर्व पत्रकार और दो बार की विधायक वीना जॉर्ज, राजनेता और व्यापारी और दो बार के विधायक वी अब्दुर्रहमान और मुहम्मद रियाज हैं। इसमें मुहम्मद रियाज सीएम विजयन (pinarayi vijayan) के दामाद हैं। जबकि बिंदू सीपीएम के कार्यवाहक सचिव और एलडीएफ संयोजक ए विजयराघवन की पत्नी हैं।