Guru Chandal Yoga: जानें क्या है गुरु चांडाल योग, क्या हैं इसके नुकसान और बचने के उपाय

Guru Chandal Yoga:बृहस्पति कुंभ राशि में गोचर कर रहा है। पंचांग के अनुसार वर्तमान में बृहस्पति प्रतिगामी अवस्था में है। बृहस्पति 18 अक्टूबर 2021 को मार्गी होंगे। ज्योतिष शास्त्र में बृहस्पति को शुभ ग्रह माना जाता है।

Guru Chandal Yoga: जानें क्या है गुरु चांडाल योग, क्या हैं इसके नुकसान और बचने के उपाय
Guru Chandal Yoga

Guru Chandal Yoga:बृहस्पति कुंभ राशि में गोचर कर रहा है। पंचांग के अनुसार वर्तमान में बृहस्पति प्रतिगामी अवस्था (retrograde state) में है। बृहस्पति 18 अक्टूबर 2021 को मार्गी होंगे। ज्योतिष शास्त्र (Astrology) में बृहस्पति को शुभ ग्रह माना जाता है।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब बृहस्पति चंद्रमा के साथ होता है तो यह बहुत शुभ योग बनाता है। इस योग को गजकेसरी योग के नाम से जाना जाता है। साथ ही जब वे राहु के साथ संयोजन करते हैं तो वे बहुत ही अशुभ योग बनाते हैं, जिसे गुरु चांडाल योग कहते हैं।

जानिए क्या है यह योग

जिस प्रकार जन्म कुंडली में मौजूद शुभ योग (good yoga) जीवन में शुभ परिणाम प्रदान करते हैं, उसी प्रकार अशुभ योग जीवन में कष्ट, बाधा, परेशानी और हानि प्रदान करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब किसी की जन्म कुंडली में गुरु चांडाल योग बनता है तो व्यक्ति के सुख में कमी आती है। शिक्षा, नौकरी, बिजनेस और रिश्तों के मामले में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस योग के कारण मानसिक तनाव की स्थिति भी निर्मित होती है।

ALSO READ: Astro Tips: आज है रंभा तीज, व्रत रखने से प्राप्त होता है यौवन और बरकरार रहती है सुंदरता 

गुरु चांडाल योग के ज्योतिषीय उपाय

ज्योतिष शास्त्र (Astrology) में गुरु चांडाल योग (Guru Chandal Yoga) से बचाव के उपाय भी बताए गए हैं। इन उपायों को अपनाकर इस अशुभ योग से बचा जा सकता है। गुरु चांडाल योग के प्रभाव को कम करने के लिए गुरुओं का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए। उनका सम्मान किया जाना चाहिए। इसके साथ ही उच्च पदों पर आसीन बड़े भाई, बॉस, व्यक्ति को भी सम्मान दिया जाना चाहिए। गुरुवार को भगवान विष्णु की पूजा करने से गुरु चांडाल योग का प्रभाव भी दूर होता है। राहु के मंत्रों का जप करना चाहिए।

ऊँ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम: