IAS Shailesh Kumar Yadav: महंगा पड़ा एक थप्पड़, सस्पेंड तो हुए ही और अब जांच बढ़ाएगी मुश्किलें

असल में शैलेन्द्र कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) शादी रूकवाने को लेकर राज्य में ही नहीं बल्कि पूरे देश में मीडिया और सोशल मीडिया में सुर्खियां बने थे।

IAS Shailesh Kumar Yadav: महंगा पड़ा एक थप्पड़, सस्पेंड तो हुए ही और अब जांच बढ़ाएगी मुश्किलें

IAS Shailesh Kumar Yadav: पश्चिम त्रिपुरा जिले के डीएम शैलेश कुमार यादव को शादी के मंडप में दूल्हे, पंडित और अन्य मेहमानों के साथ अभद्र व्यवहार करने का खामियाजा भुगतना पड़ता है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया (social media) पर वायरल होने के बाद वह मीडिया की सुर्खियां बने और राज्य सरकार ने उन्हें सस्पेंड तो कर ही दिया है। वहीं उनके खिलाफ जांच जारी है। वहीं राज्य सरकार रावल हेमेन्द्र कुमार ( Rawal Hamendra Kumar) को पश्चिम त्रिपुरा जिले का कलेक्टर नियुक्त किया है।

असल में शैलेन्द्र कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) शादी रूकवाने को लेकर राज्य में ही नहीं बल्कि पूरे देश में मीडिया और सोशल मीडिया में सुर्खियां बने थे। मीडिया भी शैलेन्द्र कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) को लेकर दो हिस्सों में बंट गया था और कुछ लोग उन्हें सही तो कुछ गलत बता रहे थे। यहां तक कि कई ब्यूरोक्रेटस ने उनकी जमकर आलोचना की। वहीं अब कानून मंत्री रतन लाल नाथ (Law Minister Ratan Lal Nath ) ने कहा कि इस मामले में डीएम ने गलती स्वीकार कर ली है। कानून मंत्री ने कहा कि मुख्य सचिव ने शैलेश कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) को निलंबित कर दिया गया है और रावल हमेंद्र कुमार को जिले का नया डीएम नियुक्त किया गया है। 

असल में 26 अप्रैल तत्कालीन डीएम शैलेश कुमार यादव  (Shailesh Kumar Yadav) ने शादी को बीच में रोक दिया था और दूल्हे, शादी कराने वाले पंडित और अन्य मेहमानों के साथ भी दुर्व्यवहार किया। इस घटना की कड़ी आलोचना हुई। उन्होंने दुल्हे के परिजनों को गिरफ्तार भी कर लिया था। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया था। लेकिन अब यादव की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है।

ALSO READ:-IAS Shailesh Kumar Yadav Suspended: सिंघम स्टाइल वाले डीएम साहब की निकल गई हिटलरी, हुए सस्पेंड

क्योंकि एक तो उन्हें राज्य सरकार ने जिले से हटाकर शासन में अटैच कर दिया और दो वरिष्ठ आईएएस अफसरों को इस मामले की जांच सौंपी है। माना जा रहा है कि उनके खिलाफ बड़ी कार्यवाही हो सकती है। 

वहीं डीएम शैलेश कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) को हटाने की मांग को लेकर भाजपा विधायक आशीष दास (BJP MLA Ashish Das) धरने पर बैठे थे और आशीष दास का कहना है कि उन्हें खुशी है कि शैलेश कुमार यादव ने अपनी गलती मान ली है। जिलाधिकारी शैलेश यादव (Shailesh Kumar Yadav)  के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। डीएम ने मौके पर मौजूद दुल्हन, पंडित, लड़के, लड़की के माता-पिता और रिश्तेदारों के साथ दुर्व्यवहार (DM misbehaved) किया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया (social media) पर खूब वायरल हुआ और उसे पद से हटाने की मांग की गई।

ALSO READ:-DM Shailesh Yadav: क्या डीएम साहब भांग पीकर गए थे शादी रोकने? सीएम का डंडा चला तो मांगने लगे माफी

जांच रिपोर्ट में बढ़ेंगी मुश्किलें

असल में उन्हें जिलाधिकारी के पद से हटाए जाने के बाद अब उनके खिलाफ जांच चल रही है और माना जा रहा है कि सबूतों के आधार पर उन्हें भविष्य में अहम पदों पर नियुक्त नहीं किया जाएगा और उनके एसीआर भी खराब हो सकता है। जिसका असर उनके कैरियर पर पड़ेगा।