JJP will hike Mass Base:यूपी पंजाब में कुनबा बढ़ाने की तैयारी में दुष्यंत की जेजेपी, यूपी चुनाव में लड़ सकती है चुनाव

JJP will hike Mass Base:इनेलो से अलग होने के बाद जननायक जनता पार्टी ने पहली बार में ही 10 विधायक जिताकर जिस तरह भाजपा सरकार में भागीदारी निभाई, उससे संगठन की भविष्य की उम्मीदें बढ़ गई हैं।

JJP will hike Mass Base:यूपी पंजाब में कुनबा बढ़ाने की तैयारी में दुष्यंत की जेजेपी, यूपी चुनाव में लड़ सकती है चुनाव

JJP will hike Mass Base:अगले साल देश के छह राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में हरियाणा की भाजपा सरकार में साझीदार जननायक जनता पार्टी अब अपना राजनीतिक कुनबा बढ़ाने की तैयारी में है। हरियाणा में संगठन का विस्तार करने के साथ-साथ डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की निगाह समीपवर्ती राज्यों में संगठन का दायरा बढ़ाने पर है। हरियाणा से सटे राज्यों दिल्ली, पंजाब व उत्तर प्रदेश के साथ राजस्थान में जजपा संगठन खड़ा करने की रणनीति पर आगे बढ़ रही है।

इनेलो से अलग होने के बाद जननायक जनता पार्टी ने पहली बार में ही 10 विधायक जिताकर जिस तरह भाजपा सरकार में भागीदारी निभाई, उससे संगठन की भविष्य की उम्मीदें बढ़ गई हैं। दुष्यंत के दादा इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला की सजा भी अब पूरी हो चुकी है। चौटाला पूरे राज्य के दौरे पर निकल पड़े हैं। किसान संगठनों के आंदोलन में शामिल होकर चौटाला अपनी हरियाणा परिक्रमा की शुरुआत कर चुके हैं। दादा के फील्ड में सक्रिय होते ही अब पोते के सामने न केवल पार्टी काडर को अपने साथ जोड़े रखने की चुनौती है, वहीं जजपा का दायरा बढ़ाने की बड़ी जिम्मेदारी भी आन पड़ी है।

अगले साल पंजाब में विधानसभा चुनाव है। उत्तर प्रदेश के चुनाव भी सिर पर हैं। दिल्ली में कुछ सीटों पर जजपा व भाजपा मिलकर चुनाव लड़ चुके हैं। राजस्थान को दुष्यंत व अभय दोनों अपनी रिश्तेदारियों का गढ़ मानते हैं। ऐसे में पार्टी के प्रदर्शन को न केवल बरकरार रखने, बल्कि पहले से अधिक अच्छे नतीजे देने के लिए खूब मेहनत करनी पड़ सकती है। 

हालांकि संगठन का काम दुष्यंत ने छोटे भाई दिग्विजय चौटाला पर छोड़ दिया है, लेकिन सरकार के कामकाज से समय निकालकर दुष्यंत को भी अपने अनुभव के जरिये दूसरे राज्यों में जजपा का मजबूत आधार तैयार करना होगा। दुष्यंत ने संगठन विस्तार के संकेत भी दिए हैं, जबकि दिग्विजय ने तो पंजाब व उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव लड़ने की संभावना से इन्कार नहीं किया है। चुनाव की परिस्थितियां क्या और कैसे बनेंगी, यह हालांकि नीतिगत विषय है, लेकिन तय है कि दुष्यंत व दिग्विजय की जोड़ी संगठन में नई नियुक्तियां करते हुए दूसरे राज्यों में पार्टी का जनाधार खड़ा करने की दिन रात प्लानिंग कर उसे सिरे चढ़ाने में लगे हैं।

ALSO READ :- JJP will hike Mass Base:यूपी पंजाब में कुनबा बढ़ाने की तैयारी में दुष्यंत की जेजेपी, यूपी चुनाव में लड़ सकती है चुनाव

यूपी और पंजाब में हैं अगले साल चुनाव

वहीं उत्तर प्रदेश और पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। जिसको लेकर जेजेपी अब रणनीति तैयार कर रही है। हालांकि इन दोनों राज्यों में जेजेपी का कोई जनाधार नहीं है। लेकिन भाजपा के जरिए वह खुद को इन राज्यों में स्थापित कर सकती है। क्योंकि इन दोनों राज्यों में जाटों की संख्या अच्छी खासी है। वहीं यूपी में पश्चिम उत्तर प्रदेश जेजेपी के लिए काफी अहम हो सकता है।