Mamata Banerjee will take oath on May 5: राज्यपाल से मिली ममता बनर्जी, पांच मई को शपथ ग्रहण

Mamata Banerjee will take oath on May 5: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने आज राजभवन में राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) से मुलाकात की। ममता 5 मई को एक सादे समारोह में सीएम पद की शपथ लेंगी। आज ही विधायक दल की बैठक हुई है।

Mamata Banerjee will take oath on May 5: राज्यपाल से मिली ममता बनर्जी, पांच मई को शपथ ग्रहण

Mamata Banerjee will take oath on May 5: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है। वहीं आज शाम को ममता बनर्जी (Mamata Banerjee)  ने राज्य के नवनिर्वाचित विधायकों के साथ  बैठक की और वह विधायक दल की नेता चुनी गई हैं।इसके बाद टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी (Mamata Banerjee)  ने आज राज्यपाल जगदीप धनखड़  (Jagdeep Dhankhar) से मुलाकात की। राज्यपाल ने उन्हें मुख्यमंत्री की शपथ के लिए आमंत्रित किया। ममता बनर्जी विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम से हार गई हैं। लिहाजा उन्हें छह महीने में भीतर सदन का सदस्य बनना होगा।

राज्यपाल ने ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने अपना इस्तीफा सौंप दिया। राज्यपाल ने उनसे और वर्तमान मंत्रिपरिषद से अनुरोध किया कि वे वैकल्पिक व्यवस्था होने तक पद पर बने रहें। ममता बनर्जी (Mamata Banerjee)  तीसरी बार मई में सुबह 10.45 बजे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगी। कोरोना की वजह से शपथग्रहण सादे समारोह में मनाया जाएगा। टीएमसी महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि नव निर्वाचित विधायकों की बैठक में, बनर्जी को सर्वसम्मति से विधायक दल का नेता चुना गया। तृणमूल के विधायकों ने मौजूदा विधानसभा के अध्यक्ष विमन बनर्जी को नई विधानसभा का कार्यवाहक अध्यक्ष चुना है।

टीएमसी ने जीती 213 सीट

विधानसभा चुनावों में टीएमसी ने 292 में से 213 विधानसभा सीटें जीतीं हैं। वहीं इस चुनाव में अपनी पूरी ताकत झोंकने वाली भाजपा केवल 77 सीटें ही जीत सकी। जबकि राज्य में कांग्रेस और वाम मोर्चा का सफाया हो गया है। जबकि ISF ने नेशनल सेक्युलर मजलिस पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़कर एक सीट जीती है। एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है। तृणमूल कांग्रेस का प्रदर्शन पिछले विधानसभा चुनावों से बेहतर रहा है। टीएमसी ने 2016 के चुनाव में 211 सीटें जीती थीं। पहली बार, भाजपा राज्य में मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभरी है। वहीं 2016 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सिर्फ तीन सीटें जीती थीं।

ALSO READ:-Shah knocks Didi’s home turf: ममता के गढ़ में अमित शाह का घर घर जाना क्या हैं मायने

नंदीग्राम से चुनाव हारी ममता

वहीं राज्य में तीसरी बार सीएम बनने जा रही है ममता बनर्जी (Mamata Banerjee)  विधानसभा की सदस्य नहीं हैं। क्योंकि वह नंदीग्राम सीट से चुनाव हार गई हैं। उन्हें बीजेपी के सुवेंदु अधिकारी ने शिकस्त दी है।