Punjab Congress: मंत्र, तंत्र, षड़यंत्र और शकुनि, क्या हैं सिद्धू के शब्दों के मायने

Punjab Congress: पंजाब में कांग्रेस नेता और राज्य के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) के बीच पिछले दिनों बैठक हुई थी। लेकिन अभी तक नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को कोई पद नहीं मिला है और वह नाराज बताए जा रहे हैं।

Punjab Congress: मंत्र, तंत्र, षड़यंत्र और शकुनि, क्या हैं सिद्धू के शब्दों के मायने

Punjab Congress: कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) ने अपने शब्दों के जरिए बहस छेड़ दी है और इससे साफ होता है कि पंजाब कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। हाल ही में पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh)  ने कैबिनेट में अपने पूर्व सहयोगी नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) से मुलाकात की थी। हालांकि माना जा रहा था कि दोनों के बीच चला आ रहा विवाद खत्म हो गया है। लेकिन एक बार फिर सिद्धू ने अपने शब्दों से जाहिर किया है कि उनके खिलाफ साजिश की जा रही हैं।

असल में कांग्रेस( Congress) नेता सिद्धू ने पिछले 24 घंटों में दो ट्वीट किए, जिसने संकेत दिया कि पंजाब कांग्रेस के भीतर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। सिद्धू ने महाभारत का जिक्र किया और ट्वीट में कुछ इशारा किया है। सिद्धू ने लिखा- 'अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर सब इतिहास में चले गए। लेकिन शकुनी का "पासा" अब भी राजनीतिक लोगों के हाथों में है !! पंजाब में दांव खेला है ..... !!! '

वहीं आज सुबह, सिद्धू ने लिखा- 'एक समय था जब मंत्र काम करते थे, फिर एक समय आया जिसमें तंत्र काम किया, फिर समय आया जिसमें यंत्र काम किए। आज के समय में, षड्यंत्र काम करते हैं।

सिद्धू की हो चुकी है कैप्टन और रावत से मुलाकात

पिछले दिनों ही सिद्धू की अमरिंदर सिंह और कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) से मुलाकात हुई। लेकिन अभी तक इस मुकाकात का कोई नतीजा नहीं निकला है। सिद्धू के राहुल और प्रियंका के साथ अच्छे संबंध हैं। लेकिन उसके बावजूद कैप्टन के सामने आलाकमान की कुछ नहीं चलती है। जिसके कारण सिद्धू पंजाब की सियासत में हाशिए पर हैं। 

यह खबर भी पढ़ें- प्रदेश अध्यक्ष या कैप्टन के सेनापति, सिद्धू की सीएम अमरिंदर से हुई चर्चा !

दो साल पहले कैप्टन की टीम से हटा दिए गए थे सिद्धू

दो साल पहले यानी 2019 में स्थानीय निकाय मंत्रालय के हटने के बाद सिद्धू ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। तब से कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व सिद्धू को मनाने की कोशिश कर रहा है। ऐसे में दोनों नेताओं के बीच बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। वहीं हाल ही में कांग्रेस नेता और पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) की सिद्धू से मुलाकात हुई। बताया जाता है कि सिद्धू प्रदेश अध्यक्ष और कैप्टन कैबिनेट में स्थानीय निकाय विभाग चाहते हैं। जिसको लेकर कैप्टन सहमत नहीं हैं।