Rebellion in Karnataka Government: क्या बीजेपी का दक्षिण का किला रहा है दरक, बगावत की सुगबुगाहट शुरू

Rebellion in Karnataka Government: येदियुरप्पा के मंत्री और बीजेपी नेता केएस ईश्वरप्पा (BJP leader KS Eshwarappa) ने विद्रोह कर दिया है। ईश्वरप्पा ने सीएम येदियुरप्पा पर उनके कामकाज में हस्तक्षेप करने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

Rebellion in Karnataka Government: क्या बीजेपी का दक्षिण का किला रहा है दरक, बगावत की सुगबुगाहट शुरू

Rebellion in Karnataka Government: भारतीय जनता पार्टी में बगावत के शुरू तेज हो रहे हैं। पहले उत्तराखंड और अब कर्नाटक (Karnataka)  में विधायक और मंत्री राज्य के सीएम के खिलाफ मैदान में उतर रहे हैं। फिलहाल कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (Chief Minister BS Yeddyurappa) का दिन ठीक नहीं चल रहा है। एक तरफ ऑपरेशन लोटस के मामले में कर्नाटक उच्च न्यायालय (Karnataka High Court) ने राज्य सरकार को झटका दिया है वहीं येदियुरप्पा के मंत्री और बीजेपी नेता केएस ईश्वरप्पा (BJP leader KS Eshwarappa)  ने विद्रोह कर दिया है। ईश्वरप्पा ने सीएम येदियुरप्पा पर उनके कामकाज में हस्तक्षेप करने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

असल में कर्नाटक (Karnataka)  सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री ईश्वरप्पा (KS Eshwarappa)  ने मुख्यमंत्री को शिकायत करते हुए राज्यपाल वजुभाई वाला (Governor, Vajubhai Vala) को एक पत्र लिखा है। उन्होंने येदियुरप्पा पर कर्नाटक (Transaction of Business)  नियम 1977 के उल्लंघन में उनके मंत्रालय में सीधे हस्तक्षेप का आरोप लगाया है। उन्होंने अपने पत्र की एक प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी प्रमुख जेपी नड्डा को भी भेजी है।

मंत्री ईश्वरप्पा ने आरोप लगाया कि येदियुरप्पा ने अपने विभाग से उनकी सहमति के बिना 774 करोड़ रुपये आवंटित किए। एक उदाहरण देते हुए, उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने बेंगलुरु में एक जिले के लिए अपने मंत्रालय के बजट से 65 करोड़ रुपये आवंटित किए और 29 अन्य जिलों की अनदेखी की।

यह खबर भी पढ़ें- उत्तराखंड के बाद अब कर्नाटक में तेजी हुई येदियुरप्पा के खिलाफ बगावत

कभी येदियुरप्पा के करीबी थी ईश्वरप्पा

ईश्वरप्पा (KS Eshwarappa)  को कभी मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा का बहुत करीबी माना जाता था। जब मुख्यमंत्री ने मंत्रिमंडल का विस्तार किया और कई नए मंत्रियों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई तो दोनों के बीच संबंध बदल गए। इसके बाद ही दोनों के बीच रिश्ते बिगड़ने लगे। वहीं हाल में एक बीजेपी विधायक ने कहा था कि राज्य में सीएम के पद से येदियुरप्पा को हटाया जाना चाहिए। क्योंकि अगर वह सीएम बने रहते हैं तो राज्य में बीजेपी को विधानसभा चुनाव में नुकसान होगा।