Satta bazar on west bengal Election: सट्टा बाजार बता रहा है किसकी बन रही है सरकार और किसका बढ़ा भाव

Satta bazar on west bengal Election: बंगाल में आए चुनावी जनमत सर्वे में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को लगातार तीसरी बार सीएम बनने के दावे किए जा रहे थे। लेकिन सट्टा बाजार (speculative or Satta market) बंगाल में चल रही हवा (wind in Bengal) को देखते हुए कुछ और ही दावे कर रहा है।

Satta bazar on west bengal Election: सट्टा बाजार बता रहा है किसकी बन रही है सरकार और किसका बढ़ा भाव

Satta bazar on west bengal Election:  बंगाल में हो रहे विधानसभा चुनाव (assembly elections in Bengal) में अब सट्टा बाजार (satta bazar west bengal) धीरे धीरे साफ हो रहा है। राज्य में चार चरण का मतदान हो चुका है और 17 अप्रैल को पांचवे चरण का मतदान होना है। वहीं राज्य में कोरोना के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है और इसके लिए शुक्रवार को चुनाव आयोग ने सियासी दलों की बैठक बुलाई है। फिलहाल पश्चिम बंगाल राज्य विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पक्ष में अपना दांव चला है।

मुम्बई के सट्टा बाजार (Mumbai's Satta Bazaar) से सट्टेबाजों (bookies) ने भविष्यवाणी की है कि भाजपा 191 से 199 सीटों पर जीत सकती है। हालांकि चुनाव के दूसरे चरण तक सट्टा बाजार (satta bazar) खुल कर अपने भाव नहीं बता रहा था, लेकिन चुनाव के चरणों के आगे बढ़ते ही बंगाल चुनाव का सट्टा बाजार (satta bazar west bengal) अब बीजेपी की तरफ झुक रहा है और बीजेपी की सरकार बनने का दावा कर रहा है। वहीं सट्टा बाजार (satta bazar) के लोगों का कहना है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस पार्टी (टीएमसी) केवल 85 से 93 सीटों के बीच सीटें जीत सकती है।

फिलहाल बंगाल में आए चुनावी जनमत सर्वे में ममता बनर्जी को लगातार तीसरी बार सीएम बनने के दावे किए जा रहे थे। सर्वे में दावा किया गया था कि टीएमसी को पश्चिम बंगाल की 294 सदस्यीय विधानसभा में 157 सीटों पर जीत मिल सकती है। लेकिन सट्टा बाजार (satta bazar) ने किसी भी तरह के दावे नहीं किया। गौरतलब है कि राज्य में विधानसभा में साधारण बहुमत साबित करने के लिए कम से कम 148 सदस्यों की आवश्यकता होती है।

अगर बात करे फलोदी के सट्टा बाजार (Satta Bazar of Phalodi) की वह भी अब बीजेपी की जीत (BJP's victory) को लेकर दावा कर रहा है। क्योंकि दूसरे चरण के चुनाव के बाद बीजेपी के पक्ष में हवा बननी शुरू हो गई है और सट्टा बाजार  (satta bazar) का मानना है कि आने वाले चरणों में बीजेपी का पक्ष और ज्यादा मजबूत होगा।

 वर्तमान में हैं टीएमसी के 211 विधायक

असल में निवर्तमान विधानसभा में टीएमसी के 211 सदस्य हैं जबकि भाजपा के सिर्फ तीन सदस्य हैं। हालांकि अभी तक जितने भी चुनावी सर्वे किए गए हैं। इसमें बीजेपी को 110 सीटें दी गई थी और टीएमसी के सरकार बनने के दावे किए गए थे। लेकिन सट्टा बाजार बंगाल चुनाव (satta bazar west bengal) को लेकर खामोश रहा और राज्य में चौथे चरण का मतदान होने के बाद सट्टा बाजार (satta bazar) बीजेपी के पलड़ा भारी बता रहा है। चुनावी सर्वेक्षणों के अनुसार, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को लगभग 146 से 162 सीटें जीतने की बात कही जा रही थी।

सटोरियों का दावा बंगाल में बन रही है बीजेपी की सरकार

फिलहाल अब सटोरियों की अलग-अलग राय है। सटोरियों (bookies) के अनुसार, भाजपा पश्चिम बंगाल में एक सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेगी और किसी अन्य राजनीतिक पार्टी का समर्थन लिए बिना एक स्थिर सरकार बनाएगी। जाहिर है कि राज्य में बंगाल चुनाव में बीजेपी की जीत रही है और टीएमसी हार रही है।

क्या कहता है मुंबई और फलोदी का सट्टा बाजार

वहीं मुंबई सट्टा बाजार  (Mumbai Satta Bazar) ने भविष्यवाणी की है कि भाजपा बंगाल विधानसभा चुनाव (Bengal Assembly elections) को जीत रही है और भारत में सबसे सटीक माने जाने वाले फलौदी सट्टा बाजार (Phalodi Satta Bazar) ने भी भाजपा सरकार बनने की भविष्यवाणी की है।

कौन कितनी सीटें रहा है जीत

बंगाल विधानसभा चुनाव (Bengal assembly elections) के लिए सट्टा बाजार (satta bazar) में सटोरियों के मुताबिक टीएमसी राज्य में 85 से 93 के बीच सीटें जीत सकती है। जबकि कांग्रेस और वाम दलों का गठबंधन 13 से 20 के बीच सीटें जीतेगी। वहीं बीजेपी 190 से ज्यादा सीटें जीत सकती है।

जानें किसका कितना है भाव

बंगाल चुनाव के लिए सट्टा बाजार (satta bazar) ने कांग्रेस और वाम दलों के गठबंधन के लिए 0.29 पैसे का भाव रखा है जबकि राज्य की सत्ताधारी टीएमसी के लिए 0.13 पैसे और राज्य में तेजी से मजबूत हो रही बीजेपी के लिए 0.8 पैसे का भाव रखा है।

आठ चरणों में हो रहे हैं चुनाव

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal assembly elections) आठ चरणों में हो रहे हैं और 29 अप्रैल को आखिरी चरण के लिए मतदान होगा। वहीं राज्य में 17 अप्रैल को पांचवे चरण का मतदान होगा। जबकि मतों की गिनती 2 मई को होगी।

Read Also:-Satta Bazar in West Bengal Election 2021: इस बार कंफ्यूज हो गया है सट्टा बाजार!

बंगाल चुनाव पर कोरोना का साया

वहीं देश में कोरोना संक्रमण से खराब हो रहे हालत को देखते हुए चुनाव आयोग (Election Commission) ने शुक्रवार को बैठक बुलाई है और इसमें सभी सियासी दलों को बुलाया गया है। वहीं बंगाल चुनाव (Bengal elections) के लिए टीएमसी ने सभी चरणों के चुनाव एक साथ कराने की अपील की है। क्योंकि टीएमसी को डर है कि राज्य में बीजेपी अपने पक्ष में माहौल बना सकती है। क्योंकि माना जाता है कि बीजेपी चरणों को देखते हुए अपनी रणनीति में बदलाव करती है और इसका नुकसान टीएमसी को उठाना पड़ सकता है।

(www.Galiyara.Net किसी भी सट्टे का समर्थन नहीं करता है और ये खबर बातचीत और खबरों के आधार पर लिखी गई है। सट्टा बाजार पूरी तरह से गैर कानूनी है)