शिवराज सरकार ने करोड़ों रुपये खर्च कर डाले मंत्रियों के बंगलों पर

एमपी में शिवराज सरकार एक साल का वक्त पूरा करने जा रही है। वहीं महज दस महीने में शिवराज सरकार ने मंत्रियों के बंगलों में जमकर पैसा खर्च किया है। जबकि राज्य सरकार की हालत काफी खराब है।

शिवराज सरकार ने करोड़ों रुपये खर्च कर डाले मंत्रियों के बंगलों पर

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने अपने चौथे कार्यकाल में मंत्रियों के बंगलों को सजाने में काफी खर्च किया है। पिछले 10 महीनों में शिवराज सरकार ने साढ़े चार करोड़ रुपये खर्च किए हैं। राज्य में सीएम शिवराज सिंह चौहान के बंगले के बाद सबसे ज्यादा खर्च मंत्री गोपाल भार्गव के बंगले पर हुआ है। पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव ने विधानसभा में यह जानकारी दी है।

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, सीएम शिवराज सिंह चौहान के आवास पर 81,52,790 रुपये खर्च हुए हैं। साथ ही पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव के आवास पर सिविल वर्क हुआ है और इसमें कुल 56,12,176 रुपये खर्च किए गए हैं। यह राशि 1 अप्रैल 2020 से 31 जनवरी 2021 के बीच मंत्रियों के बंगले पर खर्च की गई है। इसके साथ ही सीएम हाउस में सिविल कार्य पर भी 18 लाख रुपये खर्च किए गए हैं।

जबकि राज्य में दूसरे ताकतवर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले पर 44,84,455 रुपये का सिविल वर्क किया गया है। भूपेंद्र सिंह के बंगले पर 31,29,269 रुपये का सिविल वर्क, प्रभुराम चौधरी के बंगले पर 27,94,541 रुपये, अरविंद भदौरिया के पास 19,41,810 रुपये, गोविंद सिंह राजपूत के 18,75,175 रुपये और मोहन यादव के आवास में 14,36,538 रुपये खर्च हुए हैं।

वहीं राज्य की खेल और युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया और मंत्री इमरती देवी के बंगलों पर 1495 रुपये का कम से कम खर्च हुआ है।