Social Media Discussion:आखिर एक आईएएस के ट्वीट पर राजस्थान में क्यों मचा है बवाल, कौन हैं समित शर्मा

Social Media Discussion:राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयनित युवाओं को बधाई देने में राजस्थान के अफसरों ने प्रतिभाओं को जातिवाद और क्षेत्रवाद में बांटा।

Social Media Discussion:आखिर एक आईएएस के ट्वीट पर राजस्थान में क्यों मचा है बवाल, कौन हैं समित शर्मा

Social Media Discussion:राजस्थान प्रशासनिक सेवा (Rajasthan Administrative Service) में चयनित युवाओं को बधाई देते हुए राजस्थान के राजनेताओं ने प्रतिभा को जातिवाद और क्षेत्रवाद (Racism and Regionalism)में बांट दिया। प्रदेश के जाने-माने आईएएस अधिकारी और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सचिव डॉ समित शर्मा (Dr. Samit Sharma) ने एक वाट्सएप ग्रुप पर एक जाति के सफल अभ्यर्थियों की सूची डालकर उन्हें बधाई दी, जिससे वह चर्चा में आए। कुछ ने इसे शर्मनाक कहा तो कुछ ने इसे जातिवाद को बढ़ावा देने वाला कृत्य कहा। उनकी बधाई के स्क्रीनशॉट लिए गए और सोशल मीडिया पर डाल दिए गए । किसी ने लिखा कि सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सचिव रहते हुए वह जातिवाद को बढ़ावा दे रहे हैं।

वहीं किसी ने सोशल मीडिया (social media) पर लिखा, डॉ समित सिर्फ आईएएस नहीं बल्कि रोल मॉडल हैं। क्योंकि उन्होंंने राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए कई तरह के कदम उठाए हैं। राज्य में सरकार की कई स्वास्थ्य योजनाओं को धरातल पर लाने का श्रेय शर्मा को जाता है। उन्हें अपनी जाति को प्रेरित करना चाहिए जो वर्षों से हाशिए पर है। अन्यथा कोई भी जाति की फौज उनके बच्चों को भी गुमराह करेगी। किसी ने लिखा- जातीय भावना एक गुण है जो हर किसी में है। कुछ दिखाते हैं, कुछ छिपाने का नाटक करते हैं। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। समित शर्मा ने सही बात कही।

किस तरह के आए कमेंट्स

किसी ने सोशल मीडिया पर लिखा कि आरएएस कई हो गए हैं, लेकिन आईएएस समित शर्मा ने उनमें स्वदेशी पाया है। हरिशंकर परसाई ने लिखा है- कुछ बीमारियां मरीज को प्रिय हो जाती हैं, जैसे दाद की बीमारी। यह दाद, खुजली करने के लिए मजेदार है। हालांकि सोशल मीडिया पर उनकी पोस्ट को लेकर काफी हंगामा हुआ लेकिन समित शर्मा की ओर से कोई जवाब नहीं आया।

ALSO READ: Rajasthan Patwari Recruitment 2021: राजस्थान में निकली हैं पटवारी के 5 हजार से अधिक पदों के लिए भर्तियां, जानें कब है अंतिम तिथि

नेता भी नहीं रहे पीछे

नवलगढ़ विधायक राजकुमार शर्मा (Nawalgarh MLA Rajkumar Sharma) ने अपने क्षेत्र के सफल अभ्यर्थियों को बधाई देकर क्षेत्रवाद फैला दिया जबकि आईएएस समित शर्मा ने अपने जाति विशेष के सफल अभ्यर्थियों को बधाई देकर अपना जातिवादी दिखाया। कुछ अन्य नेताओं के अधिकारियों को बधाई संदेश देने में भी संकीर्णता थी, जिसके कारण विरोध का भी सामना करना पड़ा। कई जगह विरोध नहीं हुआ लेकिन अपने-अपने आरएएस बांटकर गलत संदेश भेजा गया। बधाई हो का सोशल मीडिया पर जमकर विरोध हुआ, कई ग्रुपों ने वाट्सएप पर एक-दूसरे पर टिप्पणी की, जिससे टकराव की स्थिति बन गई।