Sperm Collection:वेंटिलेटर पर पति और पत्नी ने जताई मां बनने की इच्छा, जानें क्या है मामला

Sperm Collection:जानकारी के मुताबिक महिला के पति को 10 मई को वडोदरा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वह वेंटिलेटर पर है और उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया है।

Sperm Collection:वेंटिलेटर पर पति और पत्नी ने जताई मां बनने की इच्छा, जानें क्या है मामला

Sperm Collection:गुजरात में एक मामला सामने आया है जहां पति वेंटिलेटर पर और पत्नी ने मां बनने की इच्छा जाहिर की है। लिहाजा अब कोर्ट ने उस महिला के पति के स्पर्म को सुरक्षित रखने का आदेश दिया है। असल में कोविड-19 संक्रमण के बाद गुजरात हाईकोर्ट ने मल्टीपल ऑर्गन फेलियर से वेंटिलेटर पर हैं और महिला ने पति के स्पर्म से मां बनने की इजाजत दे दी है। महिला ने खुद हाईकोर्ट में यह अनुमति देने की अपील की थी। उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के जज भी कुछ पल के लिए दंग रह गए। बाद में उन्होंने अस्पताल में महिला की इच्छा पूरी करने का निर्देश दिया।

असल में गुजरात के वडोदरा के अस्पताल ने कहा था कि पुरूष के होश में न होने के कारण महिला के पति से शुक्राणु लेकर आईवीएफ या एआरटी के जरिए गर्भवती होने की कानूनी अनुमति नहीं है। महिला ने हाईकोर्ट में बताया था कि उनकी शादी अक्टूबर 2020 में हुई थी, जिसके बाद वे विदेश चली गईं। दुर्भाग्य से उसके ससुर को अगले साल फरवरी में दिल का दौरा पड़ा, वह अपने पति के साथ भारत लौट आई । इस बीच पति को कोविड-19 हो गया और उन्हें 10 मई को वडोदरा के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वह वेंटिलेटर पर हैं। उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया है।

भारत में स्पर्म को एकत्रित करने के लिए अनुमति जरूरी

वहीं भारत में शुक्राणु एकत्र करने के लिए पुरुष की पूर्व अनुमति अनिवार्य है। इसके लिए आईसीएमआर ने स्पर्म बैंक के दिशा-निर्देश जारी किए हैं। डॉक्टर अपनी मर्जी से यह कदम नहीं उठा सकते। लेकिन नियम ऐसे व्यक्ति के बारे में स्पष्ट नहीं हैं जो ब्रेन डेड है या होश खो चुका है।

ALSO READ:-Sextortion in Gujarat:जानें क्या है Sextortion, जो गुजरात पुलिस के लिए बनता जा रहा है मुसीबत

पहले भी आ चुका है ऐसा मामला 

असल में भारत में ये पहला मामला नहीं है। जिसमें वेंटिलेकर पर रखे मरीज का स्पर्म लिया गया हो। इससे पहले भी 2018 में भी एक ऐसा मामला सामने आया था जिसमें माता-पिता सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हुए 22 वर्षीय अविवाहित बेटे के शुक्राणु को बचाए रखना चाहते थे। लेकिन नियमों की कमी के कारण ऐसा नहीं हो सका और बाद में युवक की मौत हो गई।