TMC Vs BJP: पश्चिम बंगाल में मैदान में भाजपा बदलेगी टीएमसी के खिलाफ अपनी रणनीति

TMC Vs BJP: पश्चिम बंगाल में आने वाले दिनों में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का मुकाबला करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नई रणनीति के साथ मैदान में उतरेगी।

TMC Vs BJP: पश्चिम बंगाल में मैदान में भाजपा बदलेगी टीएमसी के खिलाफ अपनी रणनीति

TMC Vs BJP: पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (The ruling Trinamool Congress in West Bengal) (टीएमसी) को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एक बार फिर तैयार हो रही है। पार्टी आने वाले दिनों में नई रणनीति के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी। पार्टी हाईकमान से लेकर प्रदेश इकाई तक में चुनाव के बाद बंगाल में हुई हिंसा (violence in bengal) को लेकर चिंता जताई गई है। माना जा रहा है कि भाजपा टीएमसी के खिलाफ आक्रामक अभियान (offensive operation) चलाएगी, जिसका नेतृत्व शुभेंदु अधिकारी और दिलीप घोष करेंगे।

मंगलवार को कोलकाता के हेस्टिंग्स स्थित पार्टी कार्यालय (office party) में एक बैठक हुई, जिसमें बंगाल इकाई के दिलीप घोष ने राज्य पदाधिकारियों, जोनल पर्यवेक्षकों और मोर्चा प्रमुखों के साथ बैठक की अध्यक्षता की । भाजपा के लिए अभी सबसे बड़ी चिंता चुनाव के बाद हिंसा की है । बैठक में घोष ने घोषणा की कि भाजपा टीएमसी सरकार के खिलाफ भारत के राष्ट्रपति के पास (BJP will go to the President of India against the TMC government) जाएगी।

राज्यपाल ने भी सरकार को घेरा

घोष ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी के नेता राज्य भर में प्रदर्शन करेंगे ताकि टीएमसी को बेनकाब किया जा सके कि किस तरह उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को टीएमसी ने राजनीतिक प्रतिशोध के लिए निशाना बनाया ।

घोष ने ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के इस दावे पर प्रहार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री बनने से पहले हिंसा हुई थी और कानून व्यवस्था (Law and order) चुनाव आयोग के अधीन थी।

घोष ने कहा, हमारी जानकारी के अनुसार सीएम के शपथ लेने के बाद हुई हिंसा में 33 लोगों की मौत हो गई है। कुल मिलाकर अब तक 40 लोगों की मौत हो चुकी है।

बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Bengal Governor Jagdeep Dhankhar) भी कानून व्यवस्था के मुद्दे पर टीएमसी सरकार से आस लगाए हुए हैं। बता दें कि बंगाल में भाजपा इकाई की यह बैठक ऐसे समय में हुई है जब विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी (Leader of Opposition Shubhendu Adhikari) राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हैं। वे यहां नड्डा से मिलने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी से मिलने आए हैं।

बैठक से गायब थे ये चेहरे

बुधवार को शाह के साथ बैठक में अधिकारी ने गृहमंत्री (home Minister) को बंगाल में कानून व्यवस्था की स्थिति की जानकारी दी। उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात की। इसके अलावा ये पदाधिकारी गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर पार्टी को बंगाल में बेहद मजबूत विपक्ष बनाने के बारे में चर्चा करेंगे।

ALSO READ: Suvendu Will Meet PM Modi: बंगाल के बीजेपी नेताओं का रिपोर्ट कार्ड पीएम को देंगे अधिकारी, टीएमसी में वापसी को तैयार हैं कई नेता

हालांकि कुछ वरिष्ठ नेता कोलकाता में पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक में शामिल नहीं हुए। अधिकारी दिल्ली में हैं, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और कृष्णा नगर के विधायक मुकुल रॉय अलग-थलग हैं। जबकि राय की पत्नी अस्पताल में हैं।

राजीव बनर्जी पिछली बैठक से क्यों गायब थे, इसे लेकर भी कई सवाल उठाए जा रहे हैं। जिस पर पार्टी ने स्पष्ट किया कि राजीव पदाधिकारी नहीं हैं। उन्हें बैठक में विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। हालांकि बनर्जी ने बैठक में शामिल नहीं होने के निजी कारणों का हवाला दिया।