कुर्सी बचाने दिल्ली में नेताओं की परिक्रमा कर रहे हैं त्रिवेन्द्र, क्या मंगल होगा शुभमंगल!

अमित शाह के साथ बैठक खत्म होने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत राज्य में सीएम के प्रमुख दावेदार माने जा रहे राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी के घर पहुंचे।

कुर्सी बचाने दिल्ली में नेताओं की परिक्रमा कर रहे हैं त्रिवेन्द्र, क्या मंगल होगा शुभमंगल!

नई दिल्ली। उत्तराखंड के सीएम सोमवार की सुबह से ही राजधानी दिल्ली में नेताओं से लगातार मिल रहे हैं। वहीं राजनीतिक हंगामे के बीच  उनकी संसद भवन राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महासचिव बीएल संतोष के साथ मुलाकात हुई। इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे। बताया जा रहा है कि ये बैठक राज्य के मौजूदा राजनीतिक हलचल को लेकर बुलाई गई थी। वहीं त्रिवेन्द्र दिल्ली में राज्य के नेताओं से भी मिले।

अमित शाह के साथ बैठक खत्म होने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत राज्य में सीएम के प्रमुख दावेदार माने जा रहे राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी के घर पहुंचे। बलूनी से मिलने के बाद, वह फिर जेपी नड्डा से मिलने गए। वहीं कहा जा रहा है कि मंगलवार को मुख्यमंत्री के देहरादून स्थित आवास पर बीजेपी की विधायक दल की बैठक होने जा रही है।

दिल्ली दरबार में पहुंचे त्रिवेद्र

राज्य में चल रहे सियासी घटनाक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को बीजेपी आलाकमान ने दिल्ली बुलाया था। क्योंकि राज्य में सीएम को लेकर नाराजगी जोरों पर हैं और विधायकों ने सीएम के खिलाफ बगावत कर दी है।

लिहाजा पार्टी अलग साल होने वाले चुनाव को देखते हुए सीएम का चेहरा बदल सकती है। बताया जा रहा है कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी उत्तराखंड में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को बदल सकती है। वहीं इस दौड़ में कई नेताओं के नाम चल रहे हैं। लिहाजा इसके लिए कल बैठक बुलाई गई है।

यह भी पढ़ें- ... अगर त्रिवेन्द्र की गई कुर्सी तो ब्यूरोक्रेसी होगा बड़ा फैक्टर

सीएम से हैं विधायक नाराज

शनिवार को हुई पर्यवेक्षकों की बैठक में कई मंत्रियों और विधायकों ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ नाराजगी जताई थी। वहीं इस बैठक में त्रिवेन्द्र  बीच में ही उठ कर चले गए थे।

ये नाम हैं चर्चा में

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में अगर त्रिवेन्द्र सिंह को बदला जाता है तो इसके लिए अनिल बलूनी, रमेश पोखरियाल और धन सिंह रावत को प्रबल दावेदार माना जा रहा है। वहीं धन सिंह राज्य में मंत्री हैं और त्रिवेन्द्र के भरोसेमंद भी। जबकि अनिल बलूनी आलाकमान के करीबी माने जाते हैं।