UP will be oxygen production hub: चीनी मिलों की मदद से हर जिले में लगेंगे ऑक्सीजन प्लांट, 300 प्लांट की योगी सरकार ने दी मंजूरी

UP will be hub of oxygen production: राज्य सरकार के इस फैसले के बाद आने वाले समय में यूपी ऑक्सीजन उत्पादन का हब बन जाएगा। पिछले साल ही राज्य में सेनेटाइजर का उत्पादन शुरू हुआ था और कोरोना संकट में यूपी सेनेटाइजर के उत्पादन के मामले में अव्वल था।

UP will be oxygen production hub: चीनी मिलों की मदद से हर जिले में लगेंगे ऑक्सीजन प्लांट, 300 प्लांट की योगी सरकार ने दी मंजूरी

UP will be hub of oxygen production: कोरोना संकट काल में उत्तर प्रदेश में आने वाले दिनों में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। क्योंकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश में जल्द ही 300 नए ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) लगाने के मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं। इसके तहत 24 ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) सरकारी और 30 निजी मेडिकल कॉलेजों में लगाए जाएंगे। साथ ही चीनी मिलों की मदद से भी प्रदेश के हर जिले में दो-दो प्लांट लगाए जाएंगे। वहीं, प्रदेश सरकार ने भारत सरकार को 61 ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए प्रस्ताव भी भेज दिया है।

राज्य सरकार के इस फैसले के बाद आने वाले समय में यूपी ऑक्सीजन उत्पादन का हब बन जाएगा। पिछले साल ही राज्य में सेनेटाइजर का उत्पादन शुरू हुआ था और कोरोना संकट में यूपी सेनेटाइजर के उत्पादन के मामले में अव्वल था। यहां तक कि देश के हर राज्य को यूपी ने सेनेटाइजर की आपूर्ति की थी। मुख्यमंत्री योगी के निर्देश पर प्रदेश में 16 हजार ऑक्सीजन कनसंट्रेटर्स का ऑर्डर प्लेस कर दिया गया है।

इसके अलावा चिकित्सा शिक्षा विभाग पांच हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदने जा रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर जल्द से जल्द लगाए जाएं, ताकि लोगों को जल्द से जल्द इसका लाभ मिल सके। प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति बेहतर करने के लिए सीएम योगी की तरफ से सभी जरूरी प्रयास किए जा रहे हैं। कल यानि दो मई को प्रदेश में सवा सात सौ मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई है। 

वहीं ऑक्सीजन (Oxygen) ऑडिट की प्रारंभिक रिपोर्ट के आधार पर अनावश्यक खपत में कमी आई है। नाइट्रोजन प्लांट में तकनीकी परिवर्तन करके उससे ऑक्सीजन (Oxygen)  गैस बनाने की भी कार्यवाही की जा रही है। गन्ना विकास विभाग एवं आबकारी विभाग द्वारा चीनी मिलों और डिस्टिलरीज में ऑक्सीजन जेनेरेशन की दिशा में विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। ऐसे में एमएसएमई इकाइयों से भी सीधे अस्पतालों को जोड़कर आपूर्ति कराई जा रही है।

ALSO READ:-Congress's dirty Politics: कांग्रेस के ऑक्सीजन टैंकर की राजनीति शुरू, विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को क्या दे पाएगी ऑक्सीजन?

5 मई से गांवों में चलेगा विशेष टेस्टिंग अभियान

योगी सरकार कोविड संक्रमण (Corona Infection) से गांवों को सुरक्षित रखने के लिए 05 मई से विशेष कोविड टेस्टिंग अभियान शुरू करने जा रही है। इस अभियान के तहत निगरानी समितियां घर-घर जाकर लोगों का इंफ्रारेड थरमामीटर से जांच करेंगी। साथ ही पल्स ऑक्सीमीटर से लोगों का ऑक्सीजन लेवल चेक किया जाएगा। इसके बाद कोविड लक्षण युक्त अथवा संदिग्ध लोगों की एंटीजन जांच कराई जाएगी। टेस्ट की रिपोर्ट और मरीज की स्थिति के आधार पर उसे होम आइसोलेशन, इंस्टिट्यूशनल क्वारन्टीन अथवा अस्पताल में इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। एक सप्ताह चलने वाले इस अभियान के तहत 10 लाख एंटीजन टेस्ट व 10 लाख मेडिकल किट दिए जाने की व्यवस्था की गई है।