Who's New General Rani:पाकिस्तान में हामिद मीर जिसे जनरल रानी बता रहे हैं वह पिंकी जादूगरनी तो नहीं?

Who's New General Rani:असल में पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर (Hamid Mir) पाकिस्तान की सियासत में नई रानी को लेकर खुलासा करने वाले थे। जिसका आजकल पाकिस्तान की सियासत में दखल बढ़ने लगा है।

Who's New General Rani:पाकिस्तान में हामिद मीर जिसे जनरल रानी बता रहे हैं वह पिंकी जादूगरनी तो नहीं?
Who's New General Rani:पाकिस्तान में हामिद मीर जिसे जनरल रानी बता रहे हैं वह पिंकी जादूगरनी तो नहीं?

Who's New General Rani:पाकिस्तान की सियासत में उबाल आया है। पाकिस्तान के जाने माने पत्रकार हामिद मीर को लेकर पाकिस्तान में इमरान खान (ImranKhan) सरकार और पाकिस्तान सेना निशाने पर है और हर कोई कोई हामिद मीर (Hamid Mir) को लेकर सरकार पर निशाने साध रहा है। वहीं पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार हामिद मीर (Hamid Mir) ने पाकिस्तानी सेना और उनके जनरलों के खिलाफ कई तीखे बयान दिए।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सेना मीडिया को सेंसर करने और पाकिस्तानी पत्रकारों को परेशान करने के लिए कड़े फैसले ले रही है। हामिद (Hamid Mir) के इस बयान के बाद पाकिस्तानी सेना और सरकार के इशारे पर जियो टीवी पर हामिद मीर (Hamid Mir) के रोजाना चलने वाले प्रोग्राम 'कैपिटल टॉक' को बंद कर दिया गया और इसके बाद पाकिस्तान में सोशल मीडिया में सरकार के खिलाफ ट्रेंड शुरू हो गया। 

 असल में कुछ दिन पहले पाकिस्तान के पत्रकार अशद अली तूर (Journalist Asad Ali Toor) पर उनके घर पर कुछ लोगों ने हमला किया और परिवार के लोगों को पीटा। बताया जाता है कि इसके पीछे भी पाकिस्तानी सेना का हाथ था। क्योंकि पाकिस्तान में पाकिस्तानी सेना अपने पाले हुए प्यादों आतंकियों और गुंडों के जरिए इस तरह के हमले कराती है। ताकि उनकी आवाज को दबाया जा सके।

इसके बाद हामिद मीर ने पाकिस्तानी सेना को चुनौती देते हुए कहा, 'आप हमारे घरों में घुसकर हमारे साथियों को मारते हैं तो फिर हम आपके घरों में नहीं घुस सकते क्योंकि आपके पास बंदूकें और टैंक हैं, लेकिन हम आपके घर में प्रवेश नहीं करेंगे। इसमें उन्होंने कहा कि हम लोगों से जरूर बताएंगे की किसकी पत्नी ने किसको गोली मारी और क्यों मारी। असल में पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर (Hamid Mir) पाकिस्तान की सियासत में नई रानी को लेकर खुलासा करने वाले थे। जिसका आजकल पाकिस्तान की सियासत में दखल बढ़ने लगा है। 

क्या आप जानते हैं वह कौन है आज के दौर की जनरल रानी। क्योंकि इस रानी की भी कहानी जनरल रानी की ही तरह है। जिस तरह से जनरल रानी एक तवायफ से पाकिस्तानी की सियासत की सबसे ताकतवर महिला बनी। वैसे ही पाकिस्तानी की सियासत में बुशरा मानेका बट्टू (Bushra Bibi) की भी एंट्री हुई। इमरान खान की बुशरा से मुलाकात हुई और फिर पांच बच्चों की मां इमरान खान के करीब आई और फिर दोनों ने रजामंदी से शादी कर ली। बताया जाता है कि पाकिस्तान सेना के एक अफसर ने बुशरा बीबी (Bushra Bibi)  के पति को इस शादी के लिए मनाया और वह फिर तैयार हो गए।

बुशरा मानेका बट्टू तो नहीं है पाकिस्तान की नई जनरल रानी

असल में पाकिस्तान में इस जनरल रानी का नाम है पिंकी जादूगरनी, पिंकी पीरनी। यानी बुशरा बीबी (Bushra Bibi) यानी इमरान खान की तीसरी बीवी बुशरा रियाज बट्टू। जिसका पाकिस्तान की सियासत में दखल बढ़ाता हीजा रहा है। बुरके में हमेशा ढके रहनी वाली बुशरा अब पाकिस्तान में सार्वजनिक स्थलों पर दिखने लगी है। वहीं पाकिस्तान में इमरान खान (ImranKhan) और बुशरा (Bushra Bibi)  की शादी के दौरान ये चर्चा आम थी कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने ही बुशरा बीबी को इमरान खान (ImranKhan) मिलवाया था। क्योंकि बुशरा बीबी (Bushra Bibi)  को पाकिस्तान में पीरनी या जादूगरनी माना जाता है और लोगों को अपने बस में आसानी से कर लेती है।

फर्स्ट लेडी बुशरा बीवी के बारे में कहा जा रहा है कि पाकिस्तान में अब इमरान खान (ImranKhan) की सरकार में बड़े फैसले अब बुशरा बीबी (Bushra Bibi) ले रही है। वहीं उसने इमरान खान के करीबी लोगों में अपने लोगों को बैठा लिया है। यानी इमरान की किचन कैबिनेट में अब बुशरा बीबी के ही लोग हैं। जिन पर इमरान खान पूरी तरह से विश्वास करते हैं। जिसमें से एक इमरान खान के प्रिंसिपल सेक्रेटरी आजम खान और जुल्फी बुखारी हैं। वहीं इस किचन कैबिनेट की प्रमुख अब बुशरा है। जिनके बारे में कहा जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना भी पीछे से बुशरा को समर्थन दे रही है।

जहांगीर तरीन और इमरान खान के बीच दूरी में बुशरा का हाथ

कभी इमरान खान (ImranKhan) के सबसे करीबी माने जाने वाले पाकिस्तान के सबसे चीनी के कारोबारी जहांगीर तरीन और इमरान खान के बीच अब दूरियां काफी बढ़ गई हैं। किसी दौर में तरीन इमरान खान (ImranKhan) के आंख और कान हुआ करते थे। यहां तक कि इमरान खान (ImranKhan) के सियासी फैसलों के साथ ही उनके निजी मसलों पर भी तरीन दखल रखते थे। तरीन और इमरान के रिश्तों को इस बात से समझा जा सकता है कि इमरान खान जब अपनी दूसरी बीवी रेहम खान से तलाक लेने जा रहे थे तो उस वक्त उन्होंने तरीन से मशविरा किया था।

इसका जिक्र रेहम खान ने अपनी किताब में भी किया है और एक बार एक इंटरव्यू में तरीन ने इस बात को माना है। वहीं तरीन के जो लोग अभी तक इमरान खान के करीब थे, उन्हें हटाकर बुशरा बीबी (Bushra Bibi)  ने अपने लोगों को नियुक्त कर दिया है। वहीं पाकिस्तान की सियासत में इंटेलिजेंस ब्यूरो यानी आईबी की अहम भूमिका है और वह रोज पाकिस्तान के सियासी और गैर सियासी मसलों की जानकारी पीएम इमरान खा नया फिर उनके प्रिंसिपल सेक्रेटरी को देते हैं। 

लिहाजा पीएम इमरान खान (ImranKhan) ने बुशरा बीबी (Bushra Bibi)  की मंजूरी के बाद प्रिंसिपल सेक्रेटरी आजम खान ने अपने दोस्त और पुलिस के रिटायर अफसर मोहम्मद सलमान खान को इस पद पर नियुक्त किया है। ताकि देश के हर मसले की जानकारी बुशरा (Bushra Bibi)  को मिल सके। ये भी कहा जाता है कि कभी जहांगीर तरीन के लिए बुशरा बीबी ने उनके चुनाव जीतने को लेकर भविष्यवाणी की थी। जिसके बाद इमरान खान और बुशरा (Bushra Bibi)  के बीच करीबियां बढ़ने लगी।

पाकिस्तान में अब सार्वजिनक सभाओं में दिखने लगी है बुशरा बीबी

वहीं पाकिस्तान के सार्वजिनक कार्यक्रमों में अब बुशरा बीबी (Bushra Bibi)  नजर आने लगी हैं। पिछले महीने ही प्रधानमंत्री की पत्नी बुशरा ने इस्लामाबाद में निश्तर पार्क स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में सूफीवाद, विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए शेख अबुल हसन ऐश शादीली रिसर्च हब का उद्घाटन किया था। वहीं पिछले साल वह एक मदरसे में भी गई थी। जहां पर सुरक्षा को लेकर बवाल भी हुआ था। जिसके बाद वहां पर स्थानीय सुरक्षा अफसर को हटा दिया गया।

पाकिस्तान में कौन थीं जनरल रानी

असल में कभी लाहौर गलियों में बड़ी तवायफों मं शुमार जनरल रानी ने पाकिस्तान की सियासत में वो मुकाम हासिल किया, जो आज तक किसी को नसीब नहीं हुआ। पाकिस्तान की जनरल रानी का असली नाम अकील अख्तर था। कहा जाता है कि 60 के दशक में याह्या खान और अकलीम का जबरदस्त प्रेम प्रसंग शुरू हुआ और लाहौर की एक तबायफ अकीम अख्तर पाकिस्तान की जनरल रानी बन गई। कहा जाता है कि जनरल याह्या खान अकीम अख्तर के प्यार में इस कदर मशगूल थे कि जनरल रानी जो कुछ भी कहती वह वही करते थे। वहीं 1969 में याह्या खान ने पाकिस्तान में मार्शल लॉ लगा दिया और जनरल रानी उन दिनों ट्रांसफर करवाती थीं, जिनका ट्रांसफर वह रोकना चाहती थीं। राजनीतिक नेताओं से लेकर फौजी अफसरों तक उनका खौफ इस कदर था कि कोई उनके सामने मुंह नहीं खोलता था।