केरल विधानसभा चुनाव क्या सियासी गणित बदेंगे बागी

केरल विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Elections) से पहले वरिष्ठ नेता पीसी थॉमस ने बीजेपी और पीसी चाको ने कांग्रेस ने इस्तीफा दिया। क्या राज्य में इन दोनों नेताओं का पार्टियों पर असर पड़ेगा।

केरल विधानसभा चुनाव क्या सियासी गणित बदेंगे बागी

नई दिल्ली। केरल में हो रहे विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Elections)  से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी के दो नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। पीसी थॉमस ने बीजेपी, पीसी चाको को कांग्रेस पार्टी में झटका दिया। इन दोनों नेताओं के पार्टी बदलने से केरल में राजनीतिक गर्मी बढ़ गई है।  हालांकि क्या इन दोनों नेताओं के कारण राज्य का सियासी गणित बदेगा इस पर राजनीतिक पंडितों का मानना है कि अगर इन दोनों नेताओं को कोई फायदा नहीं भी हुआ तो ये अन्य दलों को नुकसान जरूर पहुंचेगा।

असल में बीजेपी नेता पीसी थॉमस इस बात से नाराज थे कि भारतीय जनता पार्टी ने इस विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Elections) में उन्हें टिकट नहीं दिया। पीसी थॉमस का कहना है कि पहले के विधानसभा चुनावों (Kerala Assembly Elections) में उनके गुट ने 4 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन इस बार विधानसभा चुनावों में उन्हें एक भी सीट नहीं दी गई। वहीं पीसी चाको ने कांग्रेस पार्टी को यह कहते हुए कांग्रेस पार्टी में छोड़ दिया कि कांग्रेस बिना पतवार वाली नाव है जिसमें केवल गुटबाजी हो रही है और उन्होंने सीधे तौर पर सोनिया गांधी पर निशाना साधा था।  चाको को केरल कांग्रेस का एक प्रमुख नेता माना जाता था।

पीसी थॉमस ने अब केरल कांग्रेस में अपने धड़े का विलय कर विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Elections) लड़ने का फैसला किया है। पीसी थॉमस लंबे समय तक भारतीय जनता पार्टी से जुड़े रहे और अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में कानून और न्याय राज्य मंत्री भी रहे हैं। 

यह खबर भी पढ़ें-केरल में बीजेपी को लगा बड़ा झटका, पीसी थॉमस ने छोड़ा NDA का साथ

कौन हैं थॉमस

पीसी थॉमस को केरल का बड़ा नेता माना जाता है और वह 1989 से 2009 तक 6 बार केरल की मुवत्तुपुझा लोकसभा सीट से सांसद चुने गए हैं। पिछले 5 चुनावों के लिए, पीसी थॉमस कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन यूपीएफ़ और उसके साथ जुड़े थे।

यह खबर भी पढ़ें-अब शरद पावर का हाथ थामेंगे चाको, सोनिया पर फिर साधा निशाना

चाको ने थामा एनसीपी का हाथ

वहीं पीसी चाको लगभग पाँच दशक तक कांग्रेस पार्टी से जुड़े रहे और कांग्रेस सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। चाको 2009 से 2014 तक केरल के त्रिशूर के सांसद भी थे। केरल चुनाव से पहले चाको का कांग्रेस छोड़ना पार्टी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। चाको ही नहीं बल्कि टिकट न मिलने से नाराज केरल महिला कांग्रेस अध्यक्ष लथिका सुभाष ने इस्तीफा दे दिया।